स्मृति ईरानी का बयान कहा- शाहरुख खान ने रखा मेरी बड़ी बेटी का नाम, नहीं देखी पठान..

223
bhn
bhn

बॉलीवुड फिल्मों को लेकर पिछले कुछ समय में बॉयकॉट गैंग ने लगातार निशाना बनाया है लाल सिंह चड्ढा, ब्रह्मास्त्र, और फिर पठान का विरोध किया गया बीजेपी नेताओं से लेकर हिंदू संगठन ने शाहरुख खान की फिल्म को पहले बयान करने की मांग की थी दीपिका पादुकोण पर फिल्माए गए गाने को लेकर जमकर विवाद भी हुआ हालांकि जब पठान रिलीज हुई और फिल्म ने सफलता के झंडे गाड़ दिए इस बॉयकॉट कल्चर पर स्मृति ईरानी से जब सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि शाहरुख खान के साथ उनके परिवार के सालों पुराने रिश्ते रहे हैं उन्होंने कहा कि असहमति हो तो भी सम्मान के साथ उसे व्यक्त करने की जरूरत है स्मृति ईरानी ने कहां की मेरी बड़ी बेटी का नाम शाहरुख ने ही रखा है मेरे पति के 30 साल से दोस्त हैं मैं किसी व्यक्ति विशेष की बात नहीं करूंगी लेकिन मैं इतना कहूंगी स्वतंत्रता का मतलब है हर पक्ष की बात सुनना स्वतंत्रता का मतलब है हर पक्ष का सम्मान करना स्वतंत्रता की एक जिम्मेदारी भी है कि अगर आप सामने वाले की बात सुन ले और आप उसे सहमत ना हो तो बड़े सम्मान के साथ असहमति को दर्ज करना चाहिए।

मेरी जबरदस्त पिटाई होगी जब इंटरनेट पर लोगों को पता चलेगा

दरअसल स्मृति ईरानी ने आगे कहा आज के वक्त में कंटेंट जरूरी है आखिर में यही चला है एक दशक के पास आज के वक्त में कई विकल्प हैं दर्शक जितने पैसे में सिनेमा घर जाकर फिल्म देखेगा उसी पैसे मैं वो टीवी पर देख सकता है दर्शकों के पास जो विकल्प है उसको सम्मान से देखना चाहिए जब स्मृति ईरानी से पूछा गया कि उन्होंने पठान देखी तो उन्होंने बताया कि नहीं देखी स्मृति ईरानी ने कहा कि उन्होंने सर्कस देखी है वह बताती है एक फिल्म आई थी रोहित शेट्टी की सर्कस जिसमें कोई ऐसा नहीं है कि कोई मुझे कहे कि वह कितना अच्छा काम देखा है मेरी जबरदस्त पिटाई होगी जब इंटरनेट पर लोगों को पता चलेगा कि अच्छा तुमने वह वाहियात सी फिल्म देखी है मेरी तबीयत ठीक नहीं थी मैंने 24 घंटे काम किया तो मैंने सोचा एक चीज देखो जिसमें मैं हसू तो मैंने वह देखी तब मेरे पास ढाई घंटे का समय था तब ऑफिस में कोई काम नहीं था आज सदन चल रहा है अगर जाकर पिक्चर देखूंगी तो जनता ही पूछेगी कि इतना टाइम कहां से आया आपके पास।