MLC चुनाव के दूसरे चरण के लिए भाजपा ने घोषित के छह उम्मीदवार, पहले चरण में 30 प्रत्याशियों को दे चुकी है टिकट

459
vidhan sabha

उत्तर प्रदेश विधान परिषद के चुनाव के दूसरे चरण के लिए भारतीय जनता पार्टी ने छह प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर दिया है. पार्टी पहले चरण के लिए 30 प्रत्याशियों को पहले ही टिकट दे चुकी है. जिसमें सबसे ज्यादा टिकट क्षत्रियों को दिए गए हैं. इसके साथ ही पहले चरण के चुनाव के लिए तीन महिला प्रत्याशियों को भी मैदान में उतारा है. वहीं खास बात ये है कि परिषद के चुनाव में बीजेपी ने अपने सहयोगी दलों को कोई सीट नहीं दी है.

पार्टी ने बस्ती-सिद्धार्थ नगर स्थानीय प्राधिकरण निर्वाचन क्षेत्र से सुभा, यदुवंश को प्र्तयाशी बनाया है. जबकि कानपुर-फतेहपुर स्थानीय प्राधिकरण से अविनाश सिंह चौहान, मिर्जापुर-सोनभद्र स्थानीय प्राधिकरण से विनीत सिंह, सुल्तानपुर स्थानीय प्राधिकरण से शैलेन्द्र प्रताप सिंह, वाराणसी स्थानीय प्राधिकरण से सुदामा सिंह पटेल और जौनपुर स्थानीय प्राधिकराण से बृजेश सिहं प्रिंशु को प्रत्याशी घोषित किया है. बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव अरूण सिंह ने इसके लिए आदेश जारी किए हैं.

उत्तर प्रदेश विधान परिषद के चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी ने जातीय समीकरणों को साधने की कोशिश की है और 30 उम्मीदवारों की सूची में उसने सबसे ज्यादा क्षत्रियों को टिकट दिए हैं. वहीं पांच ब्राह्मणों और तीन महिलाओं को भी टिकट दिए गए हैं. इसके साथ ही एक कायस्थ, दो यादव, एक सैनी, दो जाट, एक कुर्मी, एक कलवार, एक नाई, एक गुर्जर को टिकट दिया है. पार्टी ने तीन महिला प्रत्याशियों को भी टिकट दिए हैं और इसमें बहराइच से डॉ. प्रज्ञा त्रिपाठी, झांसी-जालौन-ललितपुर सीट से रामा निरंजन और मुजफ्फरनगर-सहारनपुर सीट से वंदना मुदित वर्मा को उम्मीदवार बनाया है.

बीजेपी ने विधान परिषद में ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतने की रणनीति तैयार की है और पार्टी ने पिछले दिनों समाजवादी पार्टी से अलविदा कहने वाले विधान परिषद के सदस्यों को भी टिकट दिया है. पार्टी ने सीपी चंद, रविशंकर सिंह पप्पू, नरेंद्र भाटी और रामा निरंजन को टिकट दिया है. इन तीनों नेताओं ने पिछले दिनों ही समाजवादी पार्टी छोड़कर बीजेपी का का दामन थामा था. इसके साथ ही पार्टी ने कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए दिनेश प्रताप सिंह को भी टिकट दिया गया है.