पंजाब की 5 राज्यसभा सीटों के लिए आम आदमी पार्टी ने नामों पर लगाई मोहर

232
AAP rajya sabha candidates

आम आदमी पार्टी ने पंजाब से राज्यसभा के लिए डॉ. संदीप पाठक, क्रिकेटर हरभजन सिंह, अशोक मित्तल, संजीव अरोड़ा और दिल्ली के विधायक राघव चड्ढा के नाम का ऐलान किया है. संदीप पाठक की बात करें, तो उन्होंने पंजाब में पार्टी की जीत में बड़ी भूमिका निभाई थी. उन्होंने तीन साल तक लगातार पंजाब में रहकर बूथ लेवल तक संगठन बनाया है. वह आईआईटी में फिजिक्स के जाने माने प्रोफेसर हैं. उन्हें आप के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल और पंजाब सीएम भगवंत मान का करीबी माना जाता है. वहीं संजीव अरोड़ा कृष्णा प्राण ब्रेस्ट कैंसर केयर चैरिटेबल ट्रस्ट के संस्थापक हैं.

वहीं आज पंजाब की 5 राज्यसभा सीटों के लिए आखिरी दिन है, पंजाब में 31 मार्च को राज्यसभा के लिए चुनाव होना है, 5 सांसदों का कार्यकाल 9 अप्रैल को खत्म हो रहा है. ऐसी भी खबर है कि अशोक मित्तल भी पंजाब से राज्यसभा जा सकते हैं. आम आदमी पार्टी ने उनके नाम पर मुहर लगा दी है. वह लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी के फाउंडर हैं. मित्तल शिक्षा के क्षेत्र में अपने काम और समाज सेवा के लिए जाने जाते हैं. आप ने इस साल हुए पंजाब विधानसभा चुनाव में 117 में से 92 सीटों पर जीत दर्ज की थी. ऐसे में राज्यसभा की खाली सीटों पर भी इसी पार्टी के प्रत्याशियों की जीत तय मानी जा रही है.

सबसे कम उम्र का राज्यसभा सांसद
आम आदमी पार्टी सबसे कम उम्र का राज्यसभा सांसद बनाने का रिकॉर्ड बना सकती है. वह पंजाब से राघव चड्ढा को संसद के ऊपरी सदन में सबसे कम उम्र के सांसद के तौर पर भेजने का रिकॉर्ड बना सकती है, इससे पहले 45 साल की उम्र में सदन में पहुंचने का रिकॉर्ड अनिल बलूनी के नाम है. राघव चड्ढा 33 साल के हैं. वह वर्तमान में दिल्ली से विधायक और पंजाब में पार्टी के को-इंचार्ज भी हैं.

प्रदर्शनों को लेकर नवनियुक्त मंत्रियों को आगाह किया
इससे एक दिन पहले अरविंद केजरीवाल ने रविवार को पंजाब में नवनियुक्त मंत्रियों से स्पष्ट शब्दों में प्रदर्शन करने या हटाए जाने के लिए तैयार रहने को कहा था. केजरीवाल ने कहा कि जो विधायक मंत्री नहीं बनाए जाने से नाखुश हैं, उन्हें राज्य की प्रगति के लिए व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाओं को पीछे छोड़ने की जरूरत है. केजरीवाल ने कहा कि वह एक बड़े भाई की तरह उनका मार्गदर्शन करेंगे, जबकि सभी विधायकों को पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व में एक मजबूत टीम के रूप में ईमानदारी से काम करना होगा.

केजरीवाल ने फैसलों के लिए मान की सराहना की
केजरीवाल ने मुख्यमंत्री पद संभालने के बाद लिए गए फैसलों के लिए मान की सराहना भी की. उन्होंने कहा, ‘मान साहब हर मंत्री को काम के सिलसिले में लक्ष्य देंगे। उन्हें चौबीसों घंटे काम करना होगा.’ पंजाब में नयी सरकार के गठन के बाद वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए पार्टी विधायकों को अपने पहले संबोधन में आप प्रमुख ने कहा, ‘अगर आपके (मंत्रियों) लक्ष्य पूरे नहीं हुए, तो जनता कहेगी कि इस मंत्री को बदलो, दूसरे मंत्री को लाओ…काम किया जाना है और मान साहब जो भी लक्ष्य देंगे, उसे पूरा करना होगा.’