केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के पंजाब चुनाव प्रभारी गजेंद्र सिंह शेखावत ने किसानो को कहा ‘फायदे और नुकसान का आकलन जरूरी’

238

केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के पंजाब चुनाव प्रभारी गजेंद्र सिंह शेखावत (Gajendra Singh Shekhawat) ने रविवार को पंजाब के जालंधर (Jalandhar) में हवन के साथ चुनाव कार्यालय (Election Office) का शुभारंभ किया. इस दौरान पंजाब BJP के अध्यक्ष अश्विनी शर्मा समेत कई पार्टी सदस्य भी शामिल रहे. दरअसल, इस इलेक्शन ऑफिस से राज्य की संभी सीटों पर होने वाले पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election) की सर्विलांसिंग की जाएगी. चुनाव के दौरान पार्टी की सभी एक्टिविटीज इसी ऑफिस से ऑपरेट होंगी.

यही नहीं, इस आफिस के कॉल सेंटर में 24 घंटे वॉलंटियर की तैनाती रहेगी. चुनाव कार्यालय के जरिए हर चुनावी क्षेत्र में पार्टी के कार्यों की मॉनिटरिंग की जाएगी. बीजेपी के हर कार्यकर्ता का संपर्क कॉल सेंटर से होगा. इतना ही नहीं, किसी भी कार्यकर्ता से कभी-भी कार्यों के संबंध में रिपोर्ट मांगी जा सकती है. केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने चुनाव कार्यालय के शुभारंभ के बाद कहा, ‘पूरा पंजाब एक विकल्प की तलाश कर रहा है.’

उन्होंने कहा, ‘पंजाब में जिस तरह के हालात हैं वर्तमान और उससे पहले की सरकारें उसकी जिम्मेदारी लेने की बजाए अहंकार से ग्रसित हैं.’ शेखावत ने कहा, ‘जब ​किसान आंदोलन चल रहा था तब किसान आंदोलन में हिस्सा लेने वाले नेताओं ने कहा था कि हम राजनीतिक पार्टी नहीं है. अब उन्होंने यूटर्न लिया है तो इसके फायदे और नुकसान का आकलन उनको करना चाहिए.’ गौरतलब है कि किसानों के लगभग 22 संगठन ने पंजाब के चुनावी मैदान में उतरने का फैसला लिया है.

पंजाब विधानसभा चुनावों में भाग लेने के मकसद से किसान संगठनों ने मिलकर एक राजनीतिक इकाई ‘संयुक्त समाज मोर्चा’ बनाई है. पंजाब में किसानों के राजनीतिक मोर्चे का नेतृत्व बीएस राजेवाल करेंगे. बीकेयू (डकौंडा) और बीकेयू (लखोवाल) सहित तीन कृषि निकाय जल्द ही तय करेंगे कि पार्टी में शामिल होना है या नहीं. वे सभी 117 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे. किसान नेताओं ने शनिवार को इस बात की पुष्टि की.

चुनाव लड़ने की घोषणा करने वाले ये 22 किसान संगठन पंजाब के उन 32 किसान संगठनों में से हैं, जिन्होंने तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ एक साल से अधिक समय तक चले विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया था. किसान नेता हरमीत सिंह कादियान ने कहा कि पंजाब में अगले वर्ष की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए संयुक्त समाज मोर्चा का गठन किया गया है.