हिमाचल प्रदेश बना चैंपियन! पहली बार जीती विजय हजारे ट्राफी

279
himachal pradesh won vijay hazare trophy
himachal pradesh won vijay hazare trophy

Vijay Hazare Trophy 2021-22 के फाइनल में हिमाचल प्रदेश ने तमिलनाडु को हराकर इतिहास रच दिया. जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में खेले गए खिताबी मुकाबले में हिमाचल ने वीजेडी नियम के आधार पर 11 रनों से जीत दर्ज की. तमिलनाडु ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 49.4 ओवर में 314 रन बनाए, जवाब में हिमाचल ने 47.3 ओवर में 299 रन बनाए लेकिन मैच के अंतिम लम्हों में अंधेरा हो गया. इसके बाद वीजेडी मैथड के तहत हिमाचल को विजेता घोषित कर दिया गया. बता दें हिमाचल ने पहली बार कोई घरेलू टूर्नामेंट जीता. हिमाचल ने पहली बार विजय हजारे ट्रॉफी अपने नाम की.

हिमाचल प्रदेश की जीत में युवा ओपनर शुभम अरोड़ा ने बड़ी भूमिका अदा की. अपना सिर्फ 8वां लिस्ट ए मैच खेल रहे शुभम अरोड़ा ने 131 गेंदों में नाबाद 136 रन बनाए. शुभम अरोड़ा ने अपनी शतकीय पारी में 13 चौके और एक छक्का लगाया. अमित कुमार ने भी 74 रनों की बेहतरीन पारी खेली. अंत में कप्तान ऋषि धवन ने 23 गेंदों में नाबाद 42 रन बनाकर अपनी टीम को चैंपियन बनाया. तमिलनाडु के लिए विकेटकीपर दिनेश कार्तिक ने 116 और बाबा इंद्रजीत ने 80 रनों की पारी खेली. शाहरुख खान ने भी 21 गेंदों पर 42 रन बनाए लेकिन इन तीनों की ये पारियां तमिलनाडु को जीत दिलाने के लिए नाकाफी साबित हुई.

315 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी हिमाचल प्रदेश की शुरुआत अच्छी हुई. प्रशांत चोपड़ा ने शुभम अरोड़ा के साथ मिलकर अर्धशतकीय साझेदारी की. हालांकि 9वें ओवर में स्पिनर साई किशोर ने प्रशांत चोपड़ा को 21 पर आउट कर हिमाचल को पहला झटका दिया. वॉशिंगटन सुंदर ने दिग्विजय रांगी को शून्य पर निपटा कर हिमाचल प्रदेश को दूसरा झटका दिया. निखिल गंगटा भी 18 रन बनाकर आउट हो गए. इसके बाद शुभम अरोड़ा और अमित कुमार ने हिमाचल की पारी को संवारा. दोनों ने चौथे विकेट के लिए 148 रनों की साझेदारी कर तमिलनाडु की जीत के इरादों को चूर-चूर कर दिया. हालांकि अपराजित ने अमित कुमार को 74 रनों पर आउट कर तमिलनाडु को मैच में वापस लाने की कोशिश की. हालांकि ऐसा हुआ नहीं, हिमाचल के कप्तान ऋषि धवन ने ताबड़तोड़ 23 गेंदों पर 42 रन बनाए और इस दौरान शुभम अरोड़ा ने अपने लिस्ट ए करियर का पहला शतक भी जड़ा. मैच जब रोमांचक दौर में था और हिमाचल प्रदेश को 15 गेंदों में 16 रनों की जरूरत थी उसी दौरान खराब रोशनी के कारण खेल रुक गया. अंत में वीजेडी नियम के तहत हिमाचल की टीम को विजेता करार दिया गया.