रूसी राष्ट्रपति से मिले यूएन महासचिव, पुतिन से कि युद्धविराम की अपील

198
Putin-Antonio Guterres

यूक्रेन पर रूसी हमले के बाद पहली बार मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र महासचिव अंटोनियो गुटेरेश और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की मुलाकात हुई.अंटोनियो गुटेरेश के प्रवक्ता स्टीफन डुजारिक ने कहा रूसी नेता और यूएन महासचिव ने ”संघर्ष क्षेत्रों में मानवीय सहायता और निकासी के प्रस्तावों पर चर्चा की. मारियोपोल की स्थिति के बारे में भी चर्चा हुई.” डुजारिक ने कहा कि वे सैद्धांतिक रूप से सहमत हुए कि अजोव्स्ताल स्टील प्लांट कॉम्प्लेक्स से नागरिकों की निकासी के लिए संयुक्त राष्ट्र और रेड क्रॉस की अंतरराष्ट्रीय समिति को शामिल किया जाना चाहिए. अजोव्स्ताल स्टील प्लांट में यूक्रेनी सैनिक रूसी सेना को कड़ी टक्कर दे रहे हैं. डुजारिक ने कहा निकासी पर संयुक्त राष्ट्र के मानवीय कार्यालय और रूसी रक्षा मंत्रालय के बीच चर्चा की जाएगी.

सफेद मेज के किनारे बैठे दोनों बैठक के दौरान पुतिन और गुटेरेश एक सफेद मेज पर दूर दूर बैठे हुए थे. इन दोनों के अलावा इस मेज पर कोई नेता मौजूद नहीं था. यूएन ने कहा है कि यह बैठक लगभग दो घंटे तक चली. गुटेरेश ने यूक्रेन में रूस की सैन्य कार्रवाई की आलोचना की और उसे अपने पड़ोसी देश की क्षेत्रीय अखंडता का खुला उल्लंघन बताया. उन्होंने रूस से स्टील में फंसे नागरिकों को निकालने देने के लिए आग्रह किया. पुतिन ने यह दावा करते हुए जवाब दिया कि रूसी सैनिकों ने स्टील प्लांट में फंसे लोगों के लिए मानवीय गलियारे की पेशकश की है.

लेकिन उन्होंने कहा कि यूक्रेनी सैनिक स्टील प्लांट में फंसे लोगों को ढाल बना रहे हैं. रूसी हमले में विशाल अजोव्स्ताल स्टील प्लांट लगभग पूरी तरह से नष्ट हो गया है. लेकिन मारियोपोल में स्थित इस प्लांट से रूस को कड़ी टक्कर दी जा रही है. कहा जाता है कि खंडहर हो चुके प्लांट में अनुमानित 2,000 सैनिक और 1,000 नागरिक छिपे हुए हैं. मॉस्को की यात्रा के बाद गुटेरेश कीव दौरे पर जाएंगे जहां उनकी बैठक यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की से होगी. जर्मनी के राष्ट्रपति से चिढ़ते क्यों है यूक्रेन के लोग कई विश्लेषकों को यूक्रेन युद्ध में गुटेरेश के राजनयिक दौरे से बहुत ही कम उम्मीदें हैं.

संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि रूसी आक्रमण से बचने के लिए इस साल 30 लाख और यूक्रेनी देश छोड़ सकते हैं. संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी ने पिछले आंकड़ों का बदलाव करते हुए नए आंकड़े जारी किए हैं. एजेंसी ने कहा है कि इस साल कुल 83 लाख यूक्रेनी अपना देश छोड़कर कहीं और पनाह तलाशेंगे. संयुक्त राष्ट्र के आकलन के मुताबिक अब तक करीब 53 लाख यूक्रेनी देश छोड़कर पड़ोसी देशों में शरण लिए हुए हैं. एए/वीके (एपी, रॉयटर्स).