CM की कुर्सी चले जाने के डर से ममता ने की उपचुनाव की मांग, TMC का प्रतिनिधि मंडल आज चुनाव आयुक्त से करेगा मुलाकात

186

पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ दल तृणमूल कांग्रेस की ओर से विधानसभा उपचुनाव कराने की मांग तेज होती जा रही है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खुद ही इसको लेकर तनाव में चल रही हैं, उन्हें डर है कि राज्य में अगर कोरोना के मामले बढ़ने लगे तो चुनाव आयोग उपचुनाव को रोक सकता है और मुख्यमंत्री पद की कुर्सी गंवानी पड़ सकती है। इसी सिलसिले में पांच सदस्यीय एक प्रतिनिधिमंडल आज दिल्ली में चुनाव आयुक्त से मुलाकात कर पत्र सौंपेगा। इसमें सांसद सौगत रॉय, सुखेंदु एस रे, जौहर सरकार, सजदा अहमद और महुआ मोइत्रा शामिल हैं। टीएमसी की मांग है कि पश्चिम बंगाल की विधानसभा की खाली हुई सीटों पर जल्द चुनाव कराए जाएं। 

दरअसल 5 नवंबर तक ममता बनर्जी और उनकी सरकार के वित्त मंत्री को विधानसभा का सदस्य बनना जरूरी है। मई में आए चुनावी नतीजे में ममता बनर्जी नंदीग्राम सीट से चुनाव हार गई थीं। भाजपा उम्मीदवार सुवेंदु अधिकारी चुनाव जीत गए थे। 

भवानीपुर सीट से चुनाव लड़ेंगी ममता बनर्जी
 ममता बनर्जी के लिए  भवानीपुर से तृणमूल कांग्रेस नेता शोभन देव विधायक पद से इस्तीफा दे चुके हैं। भवानीपुर विधानसभा सीट मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पारंपरिक सीट रही है। ममता बनर्जी पहले यही से चुनाव लड़ती रही हैं, लेकिन 2021 में ममता बनर्जी ने नंदीग्राम सीट से चुनाव लड़ने का फैसला किया था। हालांकि, यहां पर उन्हें हार का सामना करना पड़ा। ऐसे में 6 महीने के भीतर ममता बनर्जी को किसी भी विधानसभा सीट से चुनाव जीतना होगा। 

ममता ने चुनाव आयोग से की मांग
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल में कोरोना पूरी तरह से नियंत्रण में है। लोगों को वोट डालने और विधानसभा के लिए प्रतिनिधि चुनने का अधिकार है। चुनाव आयोग को उपचुनाव कराने की घोषणा जल्द करनी चाहिए, क्योंकि हमें लोगों के लोकतांत्रिक अधिकारों में वंचित नहीं कर सकते।