Ukraine से निकाले गए 219 भारतीयों के साथ पहली उड़ान रोमानिया से मुंबई रवाना, विदेश मंत्री ने दी जानकारी

    435
    Indian student from Ukraine in Air India Flight
    Indian student from Ukraine in Air India Flight

    रूस और यूक्रेन के बीच छिड़े युद्ध के बीच करीब 18 हजार  भारतीय युक्रेन में फंस गए हैं. उनकी वतन वापसी के लिए कोशिशें शुरू हैं. इसके लिए एयर इंडिया सामने आया है. भारतीयों को रोमानिया और हंगरी के रास्ते सुरक्षित निकाल कर लाया जा रहा है.  इस बीच यूक्रेन से बाहर निकाल कर भारतीय छात्रों को आज (शनिवार, 25 फरवरी) रात नौ बजे मुंबई एयरपोर्ट लाया जा रहा है. भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर ने जानकारी दी है कि यूक्रेन से निकाले गए 219 भारतीयों के साथ पहली उड़ान रोमानिया से मुंबई रवाना हो गई है. इसके लिए मुंबई छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनैशनल एयरपोर्ट  ने पूरी तैयारी कर ली है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एयपोर्ट प्रशासन ने स्पेशल कॉरिडोर को भारतीय विद्यार्थियों के आगमन की तैयारी के लिए ब्लॉक कर दिया है. ये इंडियन स्टूडेंट्स एयर इंडिया के B787 विमान से मुंबई पहुंचेंगे.

    इस बारे में एयर इंडिया ने ‘जय हिंद’ का घोष करते हुए एक ट्वीट किया है. ट्वीट में लिखा है- ‘क्योंकि हिम्मत से हमारी पुरानी यारी है’. एयर इंडिया का यह ट्वीट भारतीयों का दिल जीत रहा है. इधर मुंबई  एयरपोर्ट प्रशासन के प्रवक्ता ने जानकारी दी कि एयरपोर्ट की ओर से यूक्रेस के संकट से निकल कर मुंबई में लैंड करने वाले भारतीय छात्रों की पूरी सुविधाएं दी जाएंगी. उन्हें किसी भी तरह की मुश्किलों का सामना नहीं करना पड़ेगा.

    सरकार की गाइडलाइंस को ध्यान में रखते हुए  रात नौ बजे पहुंचने वाले इन यात्रियों के लिए एयरपोर्ट ने स्पेशल कॉरिडोर को ब्लॉक कर दिया है. एयरपोर्ट हेल्थ ऑर्गनाइजेश (APHO) की टीम आवश्यक रूप से एयरपोर्ट पर इन यात्रियों के टेंपरेचर टेस्ट करेगी. पैसेंजर को कोविड 19 वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट दिखाने को कहा जाएगा या फिर आरटी-पीसीआर (RT-PCR) टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट दिखाने को कहा जाएगा.

    आज हुई कैबिनेट की बैठक में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कैबिनेट के अपने सभी साथियों को रूस यूक्रेन युद्ध में भारत की रणनीतिक स्थिति की जानकारी दी. साथ ही विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कैबिनेट के सभी साथियों को यूक्रेन में फंसे भारतीयों को निकालने के प्लान के विषय में भी डिटेल जानकारी दी. इवेक्युएशन प्लान पर उन्होंने कैबिनेट के सभी मंत्रियों को विस्तृत जानकारी दी. तकरीबन 20 मिनट तक विदेश मंत्री ने कैबिनेट की बैठक में इवेक्युएशन प्लान और रूस और यूक्रेन के साथ रणनीतिक बातचीत का ब्यौरा दिया. कैबिनेट की बैठक से पहले केबिनेट कमिटी ऑन सिक्योरिटी की बैठक अलग से हुई थी जिसमें रूस यूक्रेन युद्ध में फंसे भारतीयों को निकालने और ताजा रणनीतिक मुद्दों पर चर्चा हुई.

    छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनैशनल एयरपोर्ट (CSMIA) की ओर से कहा गया है कि जो पैसेंजर इन दोनों में से कोई भी डॉक्यूमेंट नहीं दिखा सकेंगे उनका आरटीपीसीआर टेस्ट एयरपोर्ट पर ही करवाया जाएगा. और रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद पैसेंजर को एयरपोर्ट से घर जाने की इजाजत दी जाएगी. एयरपोर्ट प्रशासन के प्रवक्ता की ओर से दी गई जानकारियों के मुताबिक आरटीपीसीआर टेस्ट के खर्च एयरपोर्ट प्रशासन ही वहन करेगा.

    टेस्ट में अगर कोई कोविड पॉजिटिव पाया जाता है तो एयरपोर्ट प्रशासन सरकार की गाइडिलाइंस के मुताबिक संबंधित शख्स का ध्यान रखेगी और उसे इलाज की सुविधा मुहैया करवाएगी. एयरपोर्ट की ओर से मुंबई एयरपोर्ट पर उतरने वाले पैसेंजरों को फ्री वाईफाई सुविधा, भोजन और पीने का पानी उपलब्ध करवाया जाएगा.