गावस्कर ने की IPL की तारीफ, बोले- इससे खिलाड़ियों के बीच दुश्मनी हुई कम

214

भारतीय क्रिकेट के पूर्व दिग्गज सुनील गावस्कर ने माना कि दुनिया की सबसे बड़ी टी20 इंडियन प्रीमीयर लीग ( आईपीएल ) के चलते अब अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में खिलाड़ियों के बीच तनातनी देखने को नहीं मिलती है। जिसके पीछे का कारण ये हैं कि इस लीग में सभी खिलाड़ी विभिन्न देशों से आते हैं और एक टीम में खेलते हुए अच्छे दोस्त बन जाते हैं। जिसका असर अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में भी देखने को मिलता है।

गावस्कर ने टीम इंडिया के ऑफ स्पिन गेंदबाज रविचन्द्र अश्विन के साथ यूट्यूब शो ‘डीआरएस विद अश्चिन’ में कहा, “यह एक गलत धारणा है कि आपको इतना कठोर नहीं होना चाहिए कि आप उस प्रतिद्वंद्वी की सराहना न करें जब उसका कोई बल्लेबाज अर्धशतक या शतक बनाता है। आप देखते हैं कि टीमों के खिलाड़ी अब उनकी पीठ के पीछे हाथ रखते हैं और तालियां भी बजाते हैं। मुझे यह कहते हुए खुशी हो रही है कि भारतीय टीम उनमें से नहीं है। एक अर्धशतक या एक शतक की सराहना करने में क्या जाता है?”

गावस्कर ने आगे कहा, “उपलब्धि तो उपलब्धि है और आपको इसकी तारीफ करनी चाहिए। टीमों के बीच बिरादरी कम हो गई है। यह कहना चाहिए आईपीएल ने खिलाड़ियों के बीच दुश्मनी को कम करने में एक बड़ी भूमिका निभाई है।”

गावस्कर ने आगे माना कि 2008 में आइपीएल की शुरुआत होने से पहले खिलाड़ियों के बीच ‘अविश्वसनीय और मजेदार दुश्मनी’ देखने को मिलती थी। इस तरह खेल भावना पर अंत में प्रकाश डालते हुए गवास्कर ने कहा, “क्रिकेट की भावना, वह है जहां आप बिना बेईमानी किए ज्यादा से ज्यादा कड़ा मुकाबला खेलते हैं और इसका फायदा उठाते हैं। यह एक धारणा है जहां आप सिर्फ खेल का आनंद लेना चाहते हैं, आप जितना मुश्किल हो उतना खेल सकते हैं, लेकिन निष्पक्षता का फायदा नहीं उठाते हैं, जबकि आप जानते हैं कि गलत हो सकता है।”

बता दें कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 4 टेस्ट मैचों की बॉर्डर गवास्कर सीरीज का पहल मैच 17 दिसंबर से डे नाईट टेस्ट फॉर्मेट में एडिलेड मैदान में खेला जायेगा। जिसके बाद भारतीय कप्तान कोहली पहले बच्चे के जन्म के लिए भारत वापस लौट जायेंगे और बाकी 3 टेस्ट मैचों में अंजिक्य रहाणे टीम की जिम्मेदारी संभालेंगे