शिवराज का विपक्ष पर बड़ा हमला कहा – किसानों को दिवालिया बनाने वाले उनके लिए राष्ट्रपति के पास जा रहे हैं

367

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन के बीच विपक्षी दल केंद्र सरकार के खिलाफ लामबंद होते दिख रहे हैं। विपक्षी दलों का प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करने वाले है। इस बीच मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधा है और कहा है कि किसानों को दिवालिया बनाने वाले आज उनके लिए राष्ट्रपति के पास जा रहे हैं।

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि किसान हमारे भगवान हैं और उनकी आय को दोगुना करना पीएम मोदी का सबसे बड़ा संकल्प है। नए कृषि कानून उस ओर एक क्रांतिकारी कदम हैं, लेकिन कुछ राजनीतिक पार्टी के नेता जिन्होंने अपने शासन के दौरान किसानों के लिए कुछ नहीं किया, जिन्होंने किसानों को दिवालिया बना दिया, उनके नाम पर राष्ट्रपति के पास जा रहे हैं।

शिवराज ने विपक्ष पर आगे हमला बोलता हुए कहा कि लोगों ने उन्हें नकार दिया, किसानों ने उन्हें खदेड़ दिया। उन्हें किसानों से माफी मांगनी चाहिए, वे किसानों की खराब स्थिति के प्रति जवाबदेह हैं। हर जगह से खारिज किए गए लोग किसानों के शुभचिंतक होने का नाटक कर रहे हैं। लोगों ने उनके पाखंड को पहचान लिया है।

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के पोलित ब्यूरो सदस्य सीताराम येचुरी ने मंगलवार को कहा कि विपक्षी दलों का एक संयुक्त प्रतिनिधिमंडल, जिसमें उनकी पार्टी के अलावा कांग्रेस, सीपीआइ, डीएमके शामिल होंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से हाल ही में जुड़े केंद्रीय कृषि कानूनों को लेकर आज मुलाकात करेंगे। इसमें राहुल गांधी और शरद पवार शामिल हैं।

राष्ट्रपति भवन ने कहा है कि कोरोना प्रोटोकॉल के कारण, पांच से अधिक नेताओं को राष्ट्रपति से मिलने की अनुमति नहीं है। किसानों का प्रदर्शन पिछले 13 दिनों से जारी है। 26 नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। मंगलवार को इन्होंने भारत बंद का आह्वान किया था। कई राजनीतिक पार्टियों ने इसका समर्थन किया था।