Parliament Session: सांसदों के निलंबन पर राज्यसभा में फिर हंगामा, सभापति बोले- आप दस दिन से सदन नहीं चलने दे रहे

276

राज्यसभा में 12 सांसदों के निलंबन पर विपक्ष ने बुधवार को फिर से हंगामा किया। विपक्ष सांसदों का निलंबन वापस लेने की मांग कर रहा है। इससे पहले, भारी हंगामे के बीच राज्यसभा की कार्यवाही को 12 बजे तक स्थगित कर दिया गया। राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खरगे का कहना है कि सरकार हठधर्मी, असांविधानिक, गैरकानूनी व संविधान तोड़कर लोकतंत्र के तहत नहीं चल रही है। 

वहीं, सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकी (विनियमन) विधेयक 2020 और सरोगेसी (विनियमन) विधेयक 2020 राज्यसभा में पारित हो गए। सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकी (एआरटी) विनियमन विधेयक के जरिए देश में प्रजनन क्लीनिक और शुक्राणु बैंकों के लिए मानक और आचार संहिता निर्धारित की जाएगी।

आप दस दिन से सदन नहीं चलने दे रहे : सभापति
राज्यसभा में 12 सदस्यों के निलंबन वापसी की मांग को लेकर हंगामा करने वाले विपक्ष पर सभापति एम वैंकेया नायडू ने कड़ी टिप्पणी की। सभापति ने कहा कि सदन में कागज-फाइल फेंकना, माइक तोड़ना, लोगों को टेबल पर चढ़ना, चेयरमैन के कमरे की निकासी को रोकना, मार्शलों पर हमला करने को आप कह रहे हैं कि सही है और निलंबन की कार्रवाई को गलत ठहरा रहे हैं।

सभापति ने कहा कि आप लोग दस दिन से सदन नहीं चलने दे रहे हैं और अन्य सदस्यों को बोलने नहीं दे रहे हैं। ये गलत है मैंने पहले भी सुझाव दिया है कि इस मुद्दे पर विपक्ष के नेता और अन्य नेता संसदीय कार्यमंत्री, नेता सदन के साथ चर्चा करके समाधान निकालें ताकि सदन सामान्य ढंग से चले। शून्यकाल के दौरान हंगामा और नारेबाजी कर रहे विपक्ष के सांसदों पर नाराजगी जताते हुए उन्होंने कहा कि कुछ सदस्य नहीं चाहते हैं कि सदन शून्यकाल में चले और अन्य सदस्य जनता से जुड़े मुद्दे उठाएं। ब्यूरो

केंद्रीय विद्यालयों की 7,880 सीटों का सांसद कोटा हटाएं यह चुनाव हरवाता है : सुशील
भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी ने बुधवार को राज्यसभा में मांग रखी कि केंद्रीय विद्यालयों में सांसदों का 7,880 सीटों का कोटा तत्काल खत्म किया जाए। उन्होंने शून्य काल में इसे लोकतंत्र की भावना के खिलाफ करार दिया। 

मोदी ने कहा कि एक सांसद अधिकतम 10 सीटों पर बच्चों के एडमिशन देने की सिफारिश कर सकता है, लेकिन इसके लिए उनसे हजारों लोग संपर्क करते हैं। देश में कुल 788 सांसद हैं। उन्होंने कहा कि सांसद चूंकि 10 ही बच्चों की सिफारिश करते हैं, इससे बाकी लोगों में उनके प्रति गुस्सा बढ़ जाता है। सांसद चुनाव हार रहे हैं तो इसकी बड़ी वजह यह एडमिशन भी है।