उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण से चीन और जापान को खतरा, हजारों लोग आ सकते हैं रेडिएशन के संपर्क..

349

हजारों उत्तर कोरियाई और दक्षिण कोरिया, जापान और चीन के लोग एक भूमिगत परमाणु परीक्षण स्थल से भूजल में लीक होने वाली रेडियोधर्मी सामग्री के संपर्क में आ सकते हैं, सियोल स्थित एक मानवाधिकार समूह ने मंगलवार को एक रिपोर्ट में कहा।

एक अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया

दरअसल उत्तर कोरिया ने हाल ही में एक अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया। जो प्योंगयांग की ‘घातक परमाणु हमला करने की क्षमता’ को दर्शाता है। यह पहली बार नहीं है जब उत्तर कोरिया मिसाइल परीक्षण को लेकर सुर्खियों में आया है। लेकिन अब सियोल स्थित एक मानवाधिकार समूह ने मंगलवार को एक रिपोर्ट में कहा कि हजारों उत्तर कोरियाई और दक्षिण कोरिया, जापान और चीन के लोग भूजल के माध्यम से रिसने वाले रेडियोधर्मी पदार्थों के संपर्क में आ सकते हैं।

अमेरिका और दक्षिण कोरिया की सरकारों के अनुसार, उत्तर कोरिया ने 2006 और 2017 के बीच पर्वतीय उत्तरी हामग्योंग प्रांत के पुंगे-री स्थल पर गुप्त रूप से छह परमाणु हथियार परीक्षण किए। ट्रांजिशनल जस्टिस वर्किंग ग्रुप द्वारा किए गए अध्ययन में कहा गया है कि रेडियोधर्मी सामग्री साइट के पास के आठ शहरों और काउंटी में फैल सकती है, जहां 10 लाख से अधिक उत्तरी कोरियाई रहते हैं। इस स्थान पर भूजल पीने सहित दैनिक जीवन के लिए उपयोग किया जाता है।