लखीमपुर खीरी हिंसा पर एक बार फिर बोले अखिलेश – यूपी किसानों की हत्याओं से शोकाकुल, ये महोत्सव का समय नहीं

530
formee cm akhilesh yadav
formee cm akhilesh yadav

लखीमपुर खीरी के तिकुनिया क्षेत्र में रविवार को हुई हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत के बाद जहां इलाके में तनाव है वहीं राजनीतिक हलचल भी काफी बढ़ गई है। सोमवार को उत्तर प्रदेश के जिलों में राजनीतिक हलचल तेज रही और अनेक स्थानों पर विरोध प्रदर्शन हुए। किसानों समेत विभिन्‍न संगठनों और समाजवादी पार्टी व कांग्रेस समेत विभिन्न राजनीतिक दलों ने विरोध प्रकट कर केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री की बर्खास्तगी, केंद्रीय मंत्री व उनके पुत्र के खिलाफ अपराधिक मुकदमा दर्ज कराने व मृतक किसानों के परिजनों को एक-एक करोड़ रूपये का मुआवजा और सरकारी नौकरी देने की मांग की।

समाजवादी पार्टी और कांग्रेस पार्टी दोनों के कार्यकर्ताओं ने अखिलेश यादव और प्रियंका गांधी जैसे अपने शीर्ष नेताओं को हिरासत में लिये पर गुस्सा दिखाया और उन्होंने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के इस्तीफे और उनके बेटे आशीष मिश्रा की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की। गौरतलब है कि लखीमपुर खीरी से दो बार के सांसद और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा ‘टेनी’ के विरोध में रविवार को वहां के आंदोलित किसानों ने उनके (टेनी) पैतृक गांव बनबीरपुर में आयोजित एक समारोह में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के जाने का विरोध किया और इसके बाद भड़की हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई। किसानों का आरोप है कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री मिश्रा का बेटा जिस एसयूवी में सवार था, उसी ने किसानों को कुचल दिया जिसमें चार किसानों की मौत हो गई। हालांकि मिश्रा ने आरोप को खारिज किया है। बाद में भीड़ के हमले में चार अन्य लोग मारे गये थे।