कंगना का तंज, महिलाओं का अपमान करने पर भगवान नहीं बच पाए तो मनुष्य कैसे बच जाता..

194

निर्वाचन आयोग ने शिवसेना पार्टी और उसके चुनाव चिन्ह ‘धनुष-तीर’ पर हक को लेकर एकनाथ शिंदे और उद्धव ठाकरे गुट के बीच विवाद पर अपना फैसला सुना दिया है. ईसीआई ने शिवसेना और उसके सिंबल को शिंदे गुट के साथ बरकरार रखा है. इस तरह उद्धव ठाकरे को अपने पिता बालासाहेब ठाकरे द्वारा स्थापित पार्टी गंवानी पड़ गई है. शिवसेना पर अधिकार की लड़ाई में शिंदे गुट की जीत पर अभिनेत्री कंगना रनौत ने भी प्रतिक्रिया दी है. कंगना के एक पुराने ट्वीट को रिट्वीट करते हुए बीइंग ह्यूमर नाम के ट्विटर हैंडल ने लिखा, ‘कंगना की भविष्यवाणी सच हुई. उन्हें ऐसे ही क्वीन नहीं कहा जाता.’ इसके जवाब में कंगना ने लिखा, ‘भले ही मैंने किया…लेकिन यह भविष्यवाणी नहीं थी, सिर्फ कॉमन सेंस की बात थी.’ कंगना का पुराना ट्वीट था, ‘जो साधुओं की हत्या और स्त्री का अपमान करे उसका पतन निश्चित है.’ अपने इस ट्वीट में कंगना ने हैशटैग के साथ पूर्व मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह, अनिल देशमुख, उद्धव ठाकरे और संजय राउत के नाम भी लिखे थे.

कुकर्म करने से तो देवताओं के राजा इन्द्र भी स्वर्ग से गिर जाया करते

दरअसल कंगना के इस जवाब पर ब्रैंड एजेंसी नाम के ट्विटर हैंडल ने रिप्लाई किया, ‘यही आपका पॉजिटिव एटिट्यूड जो है, वही आपकी सबसे बड़ी ताकत है. क्योंकि वक्त आपके साथ हो या नहीं हो, आप अन्याय को किस्मत समझ स्वीकार नहीं करतीं. ऐसा बहुत कम लोगों में होता है. इसे कभी बदलने मत देना.’ इस पर कंगना ने जवाब देते हुए लिखा, ‘कुकर्म करने से तो देवताओं के राजा इन्द्र भी स्वर्ग से गिर जाया करते हैं, वह तो सिर्फ एक नेता है, जब उसने अन्याय पूर्व मेरा घर तोड़ा था, मैं समझ गई थी, य​ह शीघ्र ही गिरेगा, देवता अच्छे कर्मों से उठ सकते हैं, लेकिन स्त्री का अपमान करने वाले नीच मनुष्य नहीं…यह अब कभी उठ नहीं पाएगा.’ आपको बता दें कि गत दो वर्षों के दौरान उद्धव ठाकरे और उनके करीबियों से काफी अदावत रही है. इसकी शुरुआत सुशांत सिंह राजपूत की कथित आत्महत्या के बाद हुई थी.