जम्मू में इंद्रदेव हुए मेहरबान, दिखे मौसम के कई रंग, श्रीनगर में 33 साल में सबसे गर्म रात

279

जम्मू-कश्मीर में मौसम के कई रंग देखने को मिल रहे हैं। जम्मू संभाग में सोमवार को इंद्रदेव मेहरबान रहे। कई जिलों में बारिश से दिन के तापमान में चार डिग्री तक गिरावट आई है। लेकिन अमूमन ठंडे रहने वाले कश्मीर, लेह और कारगिल में इसके विपरीत हालात बने हुए हैं। श्रीनगर में 33 साल में सोमवार को सबसे गर्म रात दर्ज की गई। सामान्य तापमान 18.7 डिग्री सेल्सियस के मुकाबले श्रीनगर में न्यूनतम तापमान 24.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से 5.9 डिग्री सेल्सियस अधिक है। इससे पहले 21 जुलाई 1988 को श्रीनगर में न्यूनतम तापमान 25.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।

जम्मू में दिन का तापमान सामान्य से 3.3 डिग्री गिरकर 30.4 और बीती रात का न्यूनतम तापमान 25.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जबकि कारगिल में दिन का तापमान 38.0 डिग्री दर्ज किया गया। लेह में अधिकतम पारा 34.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। कश्मीर में भी तपिश बढ़ी है। यहां अधिकांश जिलों में दिन का तापमान सामान्य से 3-4 डिग्री ऊपर चल रहा है। कश्मीर के किसी भी जिले में बारिश नहीं हुई।

जम्मू में सोमवार को प्रदेश में सर्वाधिक 133.7 मिलीमीटर बारिश हुई। जुलाई में नियमित अंतराल के बाद जम्मू में बारिश हो रही है। हालांकि उमस ने पीछा नहीं छोड़ा है। जम्मू में बारिश से तापमान में गिरावट आई है, लेकिन दिन में आर्द्रता (उमस) का प्रतिशत 91 फीसदी तक पहुंच गया है। जिससे पसीने छूट रहे हैं। इसी तरह संभाग के कटड़ा में 44.9 मिलीमीटर बारिश हुई। लेकिन यहां भी आर्द्रता का प्रतिशत 90 से ऊपर रहा। बटोत में पांच मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई।

जम्मू-कश्मीर में मंगलवार से भारी बारिश की चेतावनी के बीच सोमवार को जम्मू संभाग के कई इलाकों में मूसलाधार बारिश से नदी-नालों में उफान आ गया। कठुआ के उज्ज दरिया में तेज बहाव में फंसे दो युवकों को पुलिस ने एसडीआरएफ ने रेस्क्यू किया। कठुआ शहर समेत हाईवे के कई हिस्सों में भारी जलभराव से यातायात प्रभावित हुआ।

जम्मू के कई आवासीय इलाकों में भारी जलभराव से पानी लोगों के घरों में जा घुसा। जम्मू के राजीव नगर में तेज बहाव से दर्जनों घरों को हुए नुकसान के लिए आईटीबीपी के जवानों को राहत और रेस्क्यू आपरेशन के लिए लगाया गया। 

मौसम विज्ञान केंद्र श्रीनगर के अनुसार 27 से 30 जुलाई तक जम्मू और कश्मीर के कई हिस्सों में बारिश होगी। जम्मू संभाग अधिक प्रभावित होगा। विभाग ने जम्मू संभाग के संभावित क्षेत्रों में 27 से 29 जुलाई को भारी बारिश, बिजली गिरने, बाढ़, भूस्खलन और पहाड़ों से पत्थर गिरने की चेतावनी दी है।

इस दौरान जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग के साथ जम्मू-कठुआ हाईवे प्रभावित हो सकता है। बाढ़ की आशंका को देखते हुए नदी नालों के साथ बसे लोगों को जलस्थलों से दूर रहने की हिदायत दी गई है। इसके साथ आपदा प्रबंधन को सभी उचित इंतजाम करने के निर्देश दिए गए हैं।