BMC ने सोनू सूद की बढ़ाई मुश्किलें, लगाया रेजिडेंशल बिल्डिंग को होटल बनाने का आरोप, भेजा नोटिस

519

बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद के खिलाफ बीएमसी (बृहन्मुंबई महानगर पालिका) ने नोटिस जारी किया है। बीएमसी का आरोप है कि अभिनेता ने जुहू स्थित अपनी 6 मंजिला रेजिडेंशल बिल्डिंग को होटल में तब्दील किया है। साथ ही बिल्डिंग में अनधिकृत निर्माण करवाने का भी आरोप है। सोनू सूद आए दिन सुर्खियों में रहते हैं। वह जरूरतमंद, परेशान और गरीब लोगों की मदद करने के लिए हर समय तैयार रहते हैं।

अंग्रेजी वेबसाइट टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार बीएमसी ने आरोप लगाया है कि सोनू सूद ने महज दो हफ्ते के अंदर अपनी रेजिडेंशल बिल्डिंग को होटल में तब्दील कर लिया है। जिसके चलते अभिनेता को नोटिस भेजा गया है। वहीं इस पूरे मामले में सोनू सूद ने कहा है कि वह बीएमसी के नियमों को पालन करेंगे। बीएमसी का कहना है कि उन्होंने नियमों का उल्लंघन करते हुए बिल्डिंग को होटल बनाया और अनधिकृत निर्माण भी किया।

बीएमसी ने अभिनेता को एक पत्र जारी किया है जिसमें आदेश दिए गए हैं कि वह बिल्डिंग को दोबारा से रेजिडेंशल तौर पर बनाए। साथ ही सभी अनधिकृत निर्माण और परिवर्तन को तुरंत रोक दें। भवन प्रस्ताव विभाग, पश्चिमी उपनगर के उप मुख्य अभियंता ने कहा कि नगर निगम आयुक्त ने प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है…आयुक्त ने आगे कहा कि सहायक नगर आयुक्त को आदेश दिए गए हैं कि अगर कोई अनधिकृत निर्माण हुआ है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए।

इतना ही नहीं उप मुख्य अभियंता ने सोनू सूद को 15 दिन के अंदर अनधिकृत कार्य को बंद करने के निर्देश दिए हैं। अगर वह ऐसा नहीं करते हैं बीएमसी बिना किसी सूचना के आगे की कार्रवाई करेगी। जाहिर है कि बीएमसी के इस नोटिस से सोनू सूद की मुश्किलें बढ़ गई हैं। इसके अलावा सोनू सूद कोरोना मरीजों को ऑक्सीजन और जीवन रक्षक रेमडेसिविर और टोसिलीजुमैब जैसी दवाइयां मुहैया करवाईं को लेकर सवालों के घेरे में हैं। हाल ही में दवाइयों के मुहैया करवाने पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने अभिनेता पर सवाल खड़े किए।

जिसके लिए कोर्ट ने राज्य सरकार को सोनू सूद और विधायक जीशान सिद्दीकी की जांच करने के आदेश दिए हैं। वहीं इस पूरे मामले में मंगलवार को बॉम्बे हाईकोर्ट ने सोनू सूद की एक याचिका पर सुनाई करने का फैसला किया है। अभिनेता ने खुद कोर्ट से उस याचिका पर हस्‍तक्षेप करने की अपील की है जिसमें आरोप लगाया गया है कि सोशल मीडिया पर के जरिए मदद मांगने वालों को सोनू सूद ने गलत तरीके से रेमडेसिविर और टोसिलीजुमैब इंजेक्‍शन्‍स बांटे।

वहीं सोनू के वकील मिलन देसाई ने बताया कि इस मामले में अभिनेता ने सुनवाई में हस्‍तक्षेप के लिए आवेदन किया है। इस पर चीफ जस्टिस ने कहा कि वह याचिका की सुनाई करेंगे। अंग्रेजी वेबसाइट टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार सोनू सूद ने अपने आवेदन में कहा है कि महामारी की शुरुआत से वह जरूरतमंदों के लिए काम कर रहे हैं। उन्‍होंने अपने जुहू स्थित होटल में डॉक्‍टर और हेल्‍थ वर्कर्स को मुफ्त में रहने की सुविधा दी।