बेंगलुरु टेस्ट में 100 फीसदी दर्शकों को आने की इजाजत, कोरोना नियम में दी ढील

216
Spectator back in the cricket stadium

कोरोना वायरस के दौर में भारतीय फैन्स के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है. साल 2020 में जबसे कोविड- 19 वायरस प्रभाव में आया है, तब से ही खेल दर्शकों के बगैर या फिर उनकी सीमित संख्या में आने की छूट है. लेकिन शनिवार को जब भारत और श्रीलंका की टीमें बेंगलुरु में खेले जाने वाले डे-नाइट टेस्ट में उतरेंगी तो फिर नजारा बिल्कुल बदला-बदला नजर आएगा.

कर्नाटक सरकार ने इस टेस्ट के लिए एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में दर्शकों को 100 फीसदी आने की इजाजत दे दी है यानी स्टेडियम की कुल क्षमता के बराबर दर्शक इस टेस्ट का लुत्फ उठाने आ पाएंगे.

कर्नाटक स्टेट क्रिकेट असोसिएशन (KSCA) ने एक विज्ञप्ति जारी कर बताया, ‘पहले स्टेडियम में दर्शकों की कुल क्षमता का 50 फीसदी दर्शकों को आने का फैसला किया गया. लेकिन दर्शकों का उत्साह देखने के बाद और इसके अलावा जब दर्शकों के आने पर कोई पाबंदी नहीं हैं, तो केएससीए ने तय किया है कि वह स्टेडियम की पूरी क्षमता के बराबर टिकटों की बिक्री करेगा.

क्रिकेट वेबसाइट ईएसपीएन क्रिकइन्फो की एक रिपोर्ट के मुताबिक, टिकटों के लिए लगातार बढ़ रही मांग को देखते हुए राज्य क्रिकेट संघ ने राज्य सरकार से स्टेडियम को दर्शकों से पूरा भरने की इजाजत मांगी थी. 12 से 16 मार्च तक खेला जाने वाला दूसरा टेस्ट भारत-श्रीलंका के खिलाफ सीरीज का दूसरा और अंतिम टेस्ट मैच है.

इससे पहले एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में आखिरी इंटरनेशनल मैच की बात करें तो यह दो साल पहले 19 जनवरी 2020 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला गया वनडे मैच था, जबकि साल 2018 के बाद से यहां कोई टेस्ट मैच नहीं खेला गया है. वह टेस्ट मैच अफगानिस्तान के खिलाफ खेला गया था, जो अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) की कप्तानी में दो दिन में खत्म हो गया था.