कोरोना से जंग तेज – WHO ने सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन Covovax को इमरजेंसी इस्तेमाल की दी मंजूरी

    347
    WHO-approves-emergency-use-of-Covavax

    विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शुक्रवार को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोरोना वैक्सीन Covovax के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजरी दे दी. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) के सीईओ अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) ने ट्वीट कर यह जानकारी दी. पूनावाला ने ट्वीट किया, ‘यह अभी तक COVID-19 के खिलाफ हमारी लड़ाई में एक और मील का पत्थर है. Covovax को WHO की तरफ से आपातकालीन इस्तेमाल की इजाजत दे दी गई है, जो उत्कृष्ट सुरक्षा और प्रभावकारिता दिखा रहा है. आप सभी का धन्यवाद.’ बता दें कि कोवोवैक्स वैक्सीन को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने Novavax कंपनी के साथ मिलकर तैयार किया है।

    WHO का मानना है कि कम आमदनी वाले देशों को इन वैक्सीन से काफी फायदा होगा और वहां पर कम समय में तेज टीकाकरण किया जाएगा. उधर, विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) के मारिएंजेला सिमाओ ने कहा, ‘ऐसे समय में जब नए वेरिएंट सामने आ रहे हैं, वैक्‍सीन SARS-COV-2 से होने वाली गंभीर बीमारी और मौतों से लोगों को बचाने का सबसे प्रभावी उपाय है.

    छह महीने में बच्चों के लिए टीका लाएंगे पूनावाला
    सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) की अगले छह महीने में बच्चों के लिए कोविड-19 का टीका लाने की योजना है. कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अदार पूनावाला ने यह जानकारी दी. पूनावाला ने कहा कि ‘कोवोवैक्स’ टीके का परीक्षण चल रहा है और यह तीन साल और उससे अधिक की आयु के बच्चों को हर तरह से सुरक्षा प्रदान करेगा. वर्तमान में कोविशील्ड और कोविड-19 के अन्य टीकों को 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के लिए मंजूरी प्राप्त है.

    पूनावाला ने कहा, ‘हमने बच्चों में ज्यादा गंभीर रोग नहीं देखे हैं. सौभाग्य से बच्चों के लिए दहशत नहीं है. हालांकि, हम बच्चों के लिए छह महीने में एक टीका लेकर आएंगे, उम्मीद है कि यह तीन साल और उससे अधिक आयु के बच्चों के लिए होगा.’ उन्होंने इस बात का उल्लेख किया कि भारत में दो कंपनियां हैं जिन्हें लाइसेंस प्राप्त है और उनके टीके जल्द उपलब्ध होंगे.