यूक्रेन में फंसे वंदे भारत ट्रेन के पहिये की खेप पहुंची रोमानिया, हवाई मार्ग से लाया जाएगा भारत

278
vande bharat train

वंदे भारत ट्रेन के लिए 128 पहियों की खेप युद्धग्रस्त यूक्रेन से सड़क के रास्ते रोमानिया पहुंच गई है, जिसे अब रेलवे की ओर से हवाई मार्ग के जरिए भारत लाया जाएगा. सूत्रों ने यह जानकारी दी. वंदे भारत ट्रेन के लिए हजारों पहियों का ऑर्डर यूक्रेन की एक फर्म को दिया गया था, जिसका कार्य युद्ध के कारण प्रभावित हुआ है.

सूत्रों ने कहा कि इस साल के अंत तक देशभर के प्रमुख मार्गों पर 75 ‘सेमी-हाई स्पीड ट्रेन’ की शुरुआत करने के अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए भारत ने अब चेक गणराज्य, पोलैंड और अमेरिका को पहियों के ऑर्डर दिए हैं. सूत्रों ने यह भी कहा कि भारत पहियों की आपूर्ति के लिए चीन का भी रुख कर सकता है.

यूक्रेन की एक फर्म को दिया गया 36,000 पहियों का ऑर्डर

सूत्रों ने संकेत दिया कि यूक्रेन, जो इस तरह के पहियों के दुनिया के सबसे बड़े आपूर्तिकर्ताओं में से एक है, ने अधिकतर कर्मचारियों के रूस के खिलाफ युद्ध में शामिल होने के चलते नए उत्पादन को लगभग रोक दिया है. उन्होंने कहा कि इस साल दर्जनों नई वंदे भारत ट्रेन शुरू करने की रेलवे की योजना मुश्किल में पड़ गई है, क्योंकि यूक्रेन की एक फर्म को दिया गया 36,000 पहियों का ऑर्डर पूरा होना संभव नहीं लग रहा.

सूत्रों ने बताया कि पहियों को यूक्रेनी बंदरगाह से महाराष्ट्र के जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट (जेएनपीटी) में भेजने की योजना थी, जो युद्ध के कारण अटक गई. हालांकि, सूत्रों ने कहा कि इससे भारत में इन ट्रेन के अगले महीने होने वाले परीक्षणों में देरी नहीं होगी.

128 पहियों को सड़क मार्ग से रोमानिया भेजा गया है

इस संबंध में एक सूत्र ने कहा, “रेल मंत्रालय और विदेश मंत्रालय के प्रयासों से दो ट्रेन के परीक्षण के लिए आवश्यक 128 पहियों को यूक्रेन स्थित पहिया कारखाने से ट्रकों के जरिए सड़क मार्ग से रोमानिया भेजा गया है.” रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वी के त्रिपाठी ने कहा, “वंदे भारत ट्रेन के निर्माण में देरी की कोई संभावना नहीं है. पहियों और एक्सेल जैसी सभी आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति समय पर की जाएगी.”