अचानक उल्टी दौड़ने लगी दिल्ली से टनकपुर आ रही पूर्णागिरि जन शताब्दी एक्सप्रेस, मचा हड़कंप, बड़ा हादसा टला

    720

    दिल्ली से टनकपुर आ रही पूर्णागिरि जन शताब्दी एक्सप्रेस (05326) टनकपुर स्टेशन पर पहुंचने से पहले होम सिग्नल नंबर तीन के पास अचानक विपरीत दिशा में चलने लगी। जिससे रेलवे प्रशासन में हड़कंप मच गया। वहीं, ट्रेन को उल्टा चलता देख यात्रियों में भी हड़कंप मच गया।

    बताया जा रह है कि शाम करीब चार बजे होम सिग्नल के पास एक पशु के ट्रेन की चपेट में आकर कटने के बाद यह घटना हई। सूचना पर आनन-फानन क्रॉसिंग गेटों को बंद करने के आदेश दिए गए। बनबसा में पत्थर लगाकर ट्रेन रोकने की कोशिश की गई, लेकिन ट्रेन नहीं रुकी। 

    प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक उलटी दौड़ रही ट्रेन की स्पीड 40 से 45 किलोमीटर प्रति घंटा थी। रास्ते में कई जगह इस ट्रेन को रोकने के प्रयास किए गए, मगर ट्रेन पर कर्मचारी काबू नहीं कर सके। चकरपुर और खटीमा स्टेशन के बीच एक पुल की अधिक ऊंचाई होने से ट्रेन की स्पीड धीमी पड़ गई और गेट संख्या 35 पर ट्रैक पर कर्मचारियों ने पत्थर डालकर इस ट्रेन को रोक लिया गया। ट्रेन में सवार करीब 50 यात्रियों को सुरक्षित निकालकर सड़क मार्ग से टनकपुर के लिए भेज दिया गया। इसके बाद रेल प्रशासन ने राहत की सांस ली। रेल अफसरों ने इस घटना के लिए जेई ग्रेड के अधिकारियों की तीन सदस्यीय जांच टीम बनाई गई है। हालांकि इस ट्रेन को दूसरे डीजल इंजन से खटीमा स्टेशन पर लाया गया।

    टनकपुर के पास ट्रेन के ब्रेक फेल होने से बेलगाम उलटी दौड़ रही ट्रेन की सूचना से रेल प्रशासन में हड़कंप मच गया। आनन फनन में टनकपुर से पीलीभीत के बीच में पड़ने वाले सभी रेलवे क्रॉसिंग को बंद करवा दिया गया। किसी तरह ट्रेन पर काबू पाया जा सका। इसके बाद कर्मचारियों ने राहत की सांस ली। हालांकि इस ट्रेन से किसी अनहोनी की कोई सूचना नहीं है।

    ट्रेन में लगे इंजन के ब्रेक फेल होने की सूचना मिलने पर पीलीभीत से दूसरा इंजन ट्रेन रोकने के लिए भेजा गया। हालांकि ट्रेन को कर्मचारियों ने इससे पहले ही रोक लिया। कर्मचारियों की सूझबूझ से बड़ी अनहोनी होने से बच गई। इसके बाद इस पूर्णागिरि जनशताब्दी में दूसरा इंजन जोड़कर ट्रेन को खटीमा स्टेशन लगाया गया।

    टनकपुर में होम सिग्नल के पास दुर्घटना हुई है। ट्रेन के सभी यात्री सुरक्षित है। उन्हें सड़क मार्ग से टनकपुर के लिए भेजा गया है। घटना की जांच के लिए तीन सदस्यीय जेए गेड के अधिकारियों की टीम गठित कर दी गई है। जांच में दोषी मिलने वाले कर्मचारी के खिलाफ अनुशासनिक कार्रवाई की जाएगी। – राजेंद्र सिंह, पीआरओ, इज्जतनगर मंडल।