उत्तराखंड आपदाः सुरंग से पानी निकालने का काम जारी, आपदाग्रस्त क्षेत्र से अब तक मिल चुके 67 शव

    386

    ऋषि गंगा की आपदा के दो सप्ताह बाद भी कई लापता लोगों के परिजन तपोवन में डटे हैं। तपोवन के बैराज साइट से लापता चल रहे इंजीनियर मनीष कुमार का अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है। मनीष के ससुर अरविंद कुमार का कहना है कि उनका दामाद तपोवन में ओम मेटल कंपनी में इंजीनियर के पद पर कार्यरत था और पटना के नवदपुर का रहने वाला था। उन्होंने बताया कि मनीष की बीते वर्ष आठ दिसंबर को ही शादी हुई थी और आपदा के बाद से लापता है। अरविंद का कहना है कि बैराज में मलबा हटाने का काम धीमी गति से चल रहा है, जिससे अभी तक मनीष का कोई पता नहीं चल पाया है। मनीष की खोज में उनके साडू भाई अंकित शर्मा भी तपोवन में डटे हुए हैं।

    उत्तराखंड के चमोली जिले में आपदा के बाद से ही प्रभावित क्षेत्र में राहत-बचाव कार्य जारी है। आज 15वें दिन भी मलबे में दबे और लापता लोगों की ढूंढखोज की जा रही है। शनिवार को आपदाग्रस्त क्षेत्र से पांच शव बरामद  किए गए थे। अब तक कुल 67 शव मिल चुके हैं।  वहीं, आपदा में 137 लोग अभी भी लापता हैं। तपोवन सुरंग में लगातार पानी का रिसाव होने से मलबा हटाने का कार्य प्रभावित हो रहा है। पानी के रिसाव के लिए दो पंप मशीनें लगाई गई हैं।