यूपी विधानसभा चुनाव 2022: अमेठी में कांग्रेस-सपा पर PM मोदी का प्रहार, बोले- परिवारवादी लोग जमीनी हकीकत से कोसों दूर

496
pm-modi-amethi-rally

यूपी में विधानसभा चुनाव के लिए चार चरणों का मतदान खत्म हो गया है. अब सभी दल पांचवें चरण के चुनाव के लिए मैदान में हैं और एक दूसरे पर जमकर निशाना साध रहे हैं. इसी क्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अमेठी के गौरीगंज में जनसभा को संबोधित करने पहुंचे. अपने संबोधन में पीएम मोदी ने जमकर कांग्रेस और समाजवादी पार्टी पर निशाना साधा. पीएम मोदी ने कहा कि इस बार उत्तर प्रदेश रंगों वाली होली 10 मार्च को ही मनाना शुरु कर देगा. अमेठी और सुल्तानपुर के लोग तो जानते ही हैं कि परिवारवादी लोग जमीनी हकीकत से इतनी दूर हैं कि जमीन पर क्या चल रहा है, इन्हें दिखाई ही नहीं पड़ता.

सालों बाद ऐसा हुआ है जब यूपी में दंगे रुके- पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा, ”आज दशकों बाद यूपी में ऐसा चुनाव हो रहा है, जब कोई सरकार अपने किए विकास कार्यों के आधार पर, गरीब के हित में किए कार्यों के आधार पर वोट मांग रही है. सालों बाद ऐसा हुआ है जब यूपी की सरकार, सुधरी हुई कानून व्यवस्था पर वोट मांग रही है.” उन्होंने कहा, ”सालों बाद ऐसा हुआ है जब यूपी में दंगे रुके हैं, अपराधियों की हिम्मत पस्त हुई है. सालों बाद ऐसा हुआ है जब मुख्यमंत्री पर अपने परिवार को आगे बढ़ाने, भ्रष्टाचार का आरोप नहीं है.”

अपने परिवार की ताकत बढ़ाने के लिए सत्ता में आते हैं परिवारवादी लोग- मोदी

पीएम मोदी ने कहा, ‘’ये जो परिवारवादी लोग होते हैं, वो सत्ता में इसलिए आना चाहते हैं, ताकि अपनी और अपने परिवार की ताकत बढ़ा सकें. हमें किसी ताकत के लिए सत्ता नहीं चाहिए. हमारी ताकत उत्तर प्रदेश की जनता है, यहां के गरीब हैं, यहां की माताएं-बहनें हैं. आज का दिन 24 फरवरी मेरे जीवन का विशेष दिन है. आज ही पीएम किसान सम्मान निधि को 3 साल पूरे हुए हैं. जब 2019 में हमने ये योजना शुरु की थी, तो कई लोग अफवाहें, भ्रम फैला रहे थे, लेकिन हम जो काम करते हैं, ईमानदारी से करते हैं.’’

पीएम मोदी ने आगे कहा, ‘’तीन साल से पीएम किसान सम्मान निधि का पैसा सीधे किसानों के बैंक खातों में जा रहा है. अमेठी के किसानों को भी 450 करोड़ रुपये से ज्यादा इस योजना से सीधे बैंक खाते में मिला है. सुल्तानपुर के किसानों को 430 करोड़ रुपये से ज्यादा मिले हैं. आज से 20 साल पहले, 24 फरवरी की ही वो तारीख थी, जब मैं पहली बार विधायक बना था. पहली बार चुनाव के मैदान में आना पड़ा था, राजकोट के लोगों ने मुझे आशीर्वाद दिए और सेवा का ये सिलसिला शुरू हुआ.’’