यूक्रेन मुद्दे पर एकजुट दिखे राहुल और वरुण गांधी, एक ही VIDEO शेयर कर मोदी सरकार पर उठाए सवाल

509
Rahul Gandhi varun Gandhi

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को निकालने के लिए चलाए जा रहे ऑपरेशन गंगा के बीच भारत सरकार को लेकर कई तरह के सवाल उठाए जा रहे हैं. कांग्रेस समेत कई विरोधी दल देरी के लिए सरकार की आलोचना कर रहे हैं.कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने भारत सरकार पर प्रभावी कदम नहीं उठाने का आरोप लगाते हुए कहा कि यूक्रेन में फंसे भारतीयों (Indians in Ukraine) के हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं, यहां तक कि पिछले कई महीनों से अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोले बैठे भाजपा सांसद वरुण गांधी (Varun Gandhi) ने भी सही समय पर सही फैसला नहीं लेने का आरोप लगाते हुए कहा कि हर आपदा में अवसर नहीं खोजना चाहिए.

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और उनके चचेरे भाई वरुण गांधी (Varun Gandhi) ने एक ही वीडियो को शेयर करते हुए अलग-अलग शब्दों में केंद्र सरकार (Modi Govt) की आलोचना की है. पीलीभीत से भाजपा सांसद वरुण गांधी ने सोमवार सुबह यूक्रेन में फंसे एक भारतीय छात्रा का वीडियो शेयर करते हुए लिखा, “सही समय पर सही फैसले न लिए जाने के कारण 15 हजार से अधिक छात्र भारी अव्यवस्था के बीच अभी भी युद्धभूमि में फंसे हुए है. ठोस रणनीतिक और कूटनैतिक कार्यवाही कर इनकी सुरक्षित वापसी इन पर कोई उपकार नहीं बल्कि हमारा दायित्व है. हर आपदा में ‘अवसर’ नही खोजना चाहिए.”

वरुण गांधी द्वारा शेयर किए गए वीडियो को पौने सात घंटे बाद सोमवार शाम को ही शेयर करते हुए राहुल गांधी ने ट्वीट कर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, “यूक्रेन में फंसे भारतीयों के हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। फिर भी, भारत सरकार उन्हें घर लाने के लिए प्रभावी कदम नहीं उठा रही है। हमेशा की तरह, पीएम एमआईए हैं.”

आपको बता दें कि , राहुल गांधी और वरुण गांधी दोनों चचेरे भाई है, राहुल गांधी , देश के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के बेटे हैं. वहीं वरुण गांधी , राजीव गांधी के छोटे भाई और एक जमाने में कांग्रेस के सबसे ताकतवर नेता रहे संजय गांधी के बेटे हैं. हालांकि राजनीतिक रूप से दोनों परिवारों की राहें आज अलग-अलग है. सोनिया गांधी कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष है और राहुल गांधी कांग्रेस के चेहरे हैं. वहीं वरुण गांधी और उनकी माता मेनका गांधी भाजपा से लोक सभा सांसद है. लेकिन वरुण गांधी ने पिछले कई महीनों से भाजपा की केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार के खिलाफ सीधा मोर्चा खोल रखा है.