Tokyo Paralympics 2020: अवनि लेखरा के निशाने से फिर छाया हिंदुस्तान – 50 मीटर राइफल में ब्रॉन्ज जीतने के साथ टोक्यो में अपने नाम किया दूसरा मेडल

435
FILE

टोक्यो पैरालिंपिक्स (Tokyo Paralympics) में भारत ने 12वां मेडल जीत लिया है. ये मेडल उसे महिलाओं के 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन इवेंट में मिला. भारत के लिए ये मेडल कांस्य पदक के तौर पर निशानेबाज अवनि लेखरा (Avani Lekhara) ने दिलाया. टोक्यो पैरालिंपिक्स में अवनि के निशाने से भारत को मिला ये दूसरा मेडल है. इससे पहले वो देश को गोल्ड मेडल दिला चुकी हैं. वो पैरालिंपिक्स खेलों के इतिहास में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय महिला भी हैं.

19 साल की अवनि ने 4 दिन पहले 10 मीटर एयर राइफल इवेंट में गोल्ड मेडल जीता था. और अब उन्होंने अपने राइफल से देश के लिए कांसा पक्का किया. ये टोक्यो पैरालिंपिक्स में भारत की झोली में गिरा चौथा ब्रॉन्ज मेडल है. अवनि लेखरा नीलिंग पोजीशन के बाद 149.5 अंक के साथ चौथे स्थान पर थीं. प्रोन राउंड के बाद वो सीधे छठे नंबर पर फिसल गई थीं. लेकिन फिर स्टैंडिंग पोजीशन में उन्होंने कमाल की वापसी की और मुकाबले को तीसरे नंबर पर रहते हुए खत्म किया.

भारत के लिए शानदार शुक्रवार
टोक्यो पैरालिंपिक्स में भारत के लिए शुक्रवार का दिन शानदार रहा है. अवनि के जीते ब्रॉन्ज मेडल से पहले भारत की झोली में एक सिल्वर मेडल भी गिर चुका है. भारत के लिए सिल्वर मेडल पुरुषों के हाई जंप कैटेगरी में प्रवीण कुमार ने हासिल किया. उन्होंने 2.07 मीटर की हाई जंप के साथ ये कमाल किया. प्रवीण कुमार का ये प्रदर्शन उनके पर्सनल बेस्ट से भी शानदार था. इतनी ऊंची कूद के साथ उन्होंने नया एशियन रिकॉर्ड भी बना दिया.

प्रवीण कुमार के सिल्वर मेडल जीत की खुशी के घंटे भर बाद ही भारत को निशानेबाजी में अवनि लेखरा ने झूमने का एक और मौका दिया. अब तक दो मेडल पक्का कर चुकी अवनि अब 5 सितंबर को देश को तीसरा मेडल दिलाने शूटिंग रेंज में उतरेंगी.

हाई जंप और शूटिंग में मेडल पक्का होने के अलावा दूसरे खेलों में भारत के मेडल जीतने की उम्मीद बढ़ती दिखी. भारत बैडमिंटन के सिंगल्स और मिक्स्ड डबल्स इवेंट के सेमीफाइनल में पहुंच चुका है. वहीं भारतीय तीरंदाज भी अगले दौर में जगह बनाने में कामयाब रहे है.