सुनील गावस्कर का इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू के 50 साल होंगे पुरे -मिलेगा बड़ा सम्मान! वानखेड़े स्टेडियम में 9 मार्च की तारीख होगी खास

692

पूर्व भारतीय कप्तान और अपने दौर के दिग्गज बल्लेबाज सुनील गावस्कर के लिए 9 मार्च का दिन खास होने वाला है। दरअसल, लिटिल मास्टर को इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू के 50 साल पूरे होने वाले हैं। 1971 को उन्होंने वेस्टइंडीज के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत में कदम रखा था। अब मुंबई क्रिकेट संघ (एमसीए) वानखेड़े स्टेडियम में 71 वर्षीय दिग्गज के नाम पर स्थायी बॉक्स का लोकार्पण करने जा रही है।

6 मार्च 1971 को वेस्टइंडीज के खिलाफ पोर्ट ऑफ स्पेन के मैदान पर गावस्कर ने 65 और नाबाद 67 रन की पारी खेली थी। इस शानदार शुरुआत को उन्होंने बखूबी निभाया और सीरीज में 774 रन पीट दिए, जो डेब्यू कर रहे किसी भी खिलाड़ी की अपने मेडन श्रृंखला में सर्वाधिक रन का रिकॉर्ड है।

एमसीए की सर्वोच्च परिषद ने पिछले साल जुलाई में यह फैसला लिया था। 2011 विश्व कप से पहले स्टेडियम के नवीनीकरण के बाद गावस्कर के नाम का स्टेंड गायब हो गया था। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक गावस्कर शनिवार को वानखेड़े स्टेडियम पहुंचे थे, जहां एमसीए के अध्यक्ष विजय पाटिल और सचिव संजय नाइक ने उन्हें 10-12 सीटों वाला वह बॉक्स दिखाया, जिसे उनके नाम पर रखा जा रहा है।

मीडिया से बात करते हुए एमसीए के अध्यक्ष विजय पाटिल ने शनिवार को बताया कि, ‘हम दुनिया के महानतम सलामी बल्लेबाजों में से एक को कभी भी खेल और भारत के गौरव के लिए सम्मानित करने के लिए खुश हैं। गावस्कर के संन्यास होने के बाद, 1988 में बॉम्बे क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष एसके वानखेड़े ने कॉरपोरेट दिग्गज जेआरडी टाटा, प्रसिद्ध गायिका लता मंगेशकर और गावरकर के नाम पर गरवारे पवेलियन की अग्रिम पंक्ति में दो-दो सीटें आरक्षित की थीं।