यूएफा चैंपियंस लीग में मैजिकल एमबापे के मदद से PSG ने बार्सिलोना को उसी के घर में 4-1 से दी करारी शिकस्त

359

युवा स्ट्राइकर कायलियन एमबापे की हैट्रिक की मदद से पेरिस सेंट जर्मेन (पीएसजी) ने दिग्गज स्ट्राइकर लियोन मेसी की मौजूदगी वाले स्पेनिश क्लब बार्सिलोना को यूएफा चैंपियंस लीग फुटबॉल में अंतिम-16 के पहले चरण के मैच में 4-1 से करारी शिकस्त दी। कायलियन एमबापे ने मैच जीतने के बाद कहा, ‘यह हमारे लिए महत्वपूर्ण मैच था। हम यहां जीतना चाहते थे और हमने अपने अंदाज में जीत दर्ज की।’

22 वर्षीय एमबापे ने जिस तरह की फॉर्म दिखाई उससे मेसी का प्रदर्शन फीका पड़ गया और बार्सिलोना के पास इस बार वापसी का कोई मौका नहीं रहा। पीएसजी की टीम अपने मुख्य स्ट्राइकरों विश्व के सबसे महंगे फुटबॉलर नेमार और एंजल डि मारिया के बिना मैदान पर उतरी थी और गोल करने का जिम्मा एमबापे के कंधों पर था। दोनों खिलाडि़यों के नहीं खेलने पर उम्मीद की जा रही थी कि मेसी की टीम अपने घर में जीत दर्ज कर लेगी, लेकिन बार्सिलोना के मैनेजर रोनाल्ड कौमेन की टीम ने अपने प्रशंसकों को निराश किया।

बार्सिलोना ने 27वें मिनट में ही गोल कर 1-0 की बढ़त बनाई थी। टीम के लिए यह गोल लियोन मेसी ने 27वें मिनट में पेनाल्टी पर किया। उन्होंने बायें पैर से गेंद को गोल पोस्ट में पहुंचाया। हालांकि इसके बाद पीएसजी ने बेहतरीन वापसी की और एमबापे द्वारा 32वें और 65वें मिनट में शानदार गोल की मदद से 2-1 की बढ़त बनाई। इसके बाद माइसिस किन ने 70वें मिनट में गोल करके पीएसजी को 3-1 से आगे कर दिया। इस गोल के बाद एमबापे ने 86वें मिनट में एक और गोल करके अपनी हैट्रिक पूरी की और पीएसजी को 4-1 की शानदार जीत दिला दी। चैंपियंस लीग में बार्सिलोना के खिलाफ हैट्रिक लगाने वाले एमबापे तीसरे खिलाड़ी बन गए हैं। दोनों टीमों के बीच दूसरे चरण का मुकाबला 20 मार्च को पेरिस में खेला जाएगा।

बार्सिलोना ने चार साल पहले टूर्नामेंट के इसी चरण में पीएसजी पर बड़ी जीत दर्ज की थी। बार्सिलोना तब पहले चरण में 0-4 से हार गया था, लेकिन उसने दूसरा चरण का मैच 6-1 से जीता था। यह हार बार्सिलोना के लिए एक और झटका है जिसकी टीम पिछले साल क्वार्टर फाइनल में बायर्न म्यूनिख के हाथों 2-8 से करारी शिकस्त के बाद एकजुट होकर नहीं खेल पाई है। जुलाई 2020 के बाद से बार्सिलोना के लिए सब कुछ ठीक नहीं हो रहा है। टीम को रीयल मैड्रिड के हाथों ला लीगा खिताब गंवाना पड़ा। इसके अलावा उसे 32 साल में पहली बार सत्र के इतने खराब दौर से गुजरना पड़ रहा है। बार्सिलोना को एथलेटिक बिलबाओ के हाथों सुपर कप भी गंवाना पड़ा था।

लिवरपूल जीता : इंग्लिश क्लब लिवरपूल ने मुहम्मद सलाह और सादियो माने के गोल की मदद से अंतिम-16 के पहले चरण के मैच में आरबी लीप्जिग को 2-0 से हरा दिया। लिवरपूल की टीम पिछले कुछ समय से संघर्ष कर रही है लेकिन जर्मन टीम लीप्जिग के खिलाफ उसने रक्षापंक्ति की गलतियों का पूरा फायदा उठाया और मैच में जीत दर्ज की।

प्रीमियर लीग में खिताब की दौड़ में पिछड़ने के बाद लिवरपूल को इस जीत से कुछ राहत मिली होगी। सलाह ने 53वें मिनट में लीप्जिग के मार्सेल सैबित्जर के गलत पास का फायदा उठाकर लिवरपूल को बढ़त दिलाई। सलाह का सात मैचों में यह सातवां गोल है और इस सत्र में अब उनके 24 गोल हो गए हैं। इसके पांच मिनट बाद लीप्जिग के डिफेंडर नोर्डी मुकीले ने गलती की जिसका फायदा उठाकर माने लिवरपूल की तरफ से दूसरा गोल दागने में सफल रहे।

  • नंबर गेम –
  • 3 गोल चैंपियंस लीग में कैंप नाउ में एमबापे ने दागे। वह 1997 में डायनमो कीव के एंड्री शेवचेंको के बाद कैंप नाउ में हैट्रिक लगाने वाले पहले बाहरी खिलाड़ी बन गए हैं
  • 10 गोल मेसी ने अपने पिछले 10 मैचों में किए हैं। इसके साथ ही वह चैंपियंस लीग के अंतिम-16 के 31 मैचों में 28 गोल दाग चुके हैं। इसके अलावा उन्होंने लगातार 17 साल (2005-2021) टूर्नामेंट में गोल किए हैं