प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज डिजिटल माध्यम से जी7 शिखर सम्मेलन को करेंगे संबोधित 

    445

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज डिजिटल माध्यम से जी7 शिखर सम्मेलन को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी 12 और 13 जून को जी7 के शिखर सम्मेलन के संपर्क (आउटरीच) सत्रों में डिजिटल माध्यम से भाग लेंगे।  

    विदेश मंत्रालय ने पिछले महीने कहा था कि मोदी देश में कोरोना वायरस महामारी की मौजूदा स्थिति के मद्देनजर जी7 के शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए ब्रिटेन नहीं जाएंगे।

    जी7 समूह में ब्रिटेन, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान और अमेरिका शामिल हैं। जी7 के अध्यक्ष के नाते ब्रिटेन ने भारत, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया और दक्षिण अफ्रीका को शिखर सम्मेलन में आमंत्रित किया है।

    शुक्रवार को ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कॉर्नवाल में जी-7 शिखर सम्मेलन की शुरुआत में शुक्रवार को घोषणा की कि ब्रिटेन अगले साल तक दुनिया को कोविड-19 रोधी टीके की 10 करोड़ खुराकें देगा।

    जॉनसन ने कहा, महामारी की शुरुआत के बाद से इस घातक बीमारी के खिलाफ मानवता की रक्षा के लिए ब्रिटेन ने आगे बढ़कर प्रयास किया है। एक साल पहले हमने ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के टीके को इस आधार पर वित्तीय मदद की थी कि दुनिया को किफायती मूल्य पर टीके की आपूर्ति हो। 

    शिखर सम्मेलन के औपचारिक सत्र के पहले जॉनसन ने महामारी को हराने के लिए बड़े कदम उठाने का संकल्प जताया। ब्रिटेन, अमेरिका, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली और जापान के साथ यूरोपीय संघ और अतिथि राष्ट्र के तौर पर भारत, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका इस बैठक में हिस्सा ले रहे हैं।

    ब्रिटेन दुनिया के गरीब देशों के लिए सितंबर अंत तक 50 लाख खुराकें मुहैया कराएगा। जॉनसन ने कहा कि ब्रिटेन अगले साल तक और 9.5 करोड़ खुराकें उपलब्ध कराएगा। इनमें से 80 प्रतिशत खुराकें संयुक्त राष्ट्री पहल ‘कोवैक्स’ को भेजी जाएंगी। जॉनसन ने कहा कि जी-7 शिखर सम्मेलन में मुझे उम्मीद है कि सहयोगी नेता भी इसी तरह का संकल्प जताएंगे ताकि अगले साल के अंत तक पूरी दुनिया का टीकाकरण हो जाए और कोरोना वायरस के लिहाज से सुरक्षित माहौल बने।