ऑपरेशन गंगा के तहत यूक्रेन में फंसे 2 हजार से ज्यादा लोगों को आज वापस भारत लाया जाएगा, IAF की चार और 11 अन्य फ्लाइट भरेंगी उड़ान

329
Indian Students Bought back to the nation

ऑपरेशन गंगा (Operation GANGA) के तहत शनिवार को 2,000 से अधिक भारतीय नागरिकों (Indian Stuck in Ukraine) के निकाले जाने की उम्मीद है. केंद्र ने उन भारतीयों को निकालने के लिए एक एयरलिफ्ट अभियान शुरू किया है, जो युद्धग्रस्त यूक्रेन (Russia Ukraine Crisis) के पड़ोसी देशों में अपना रास्ता खोज चुके हैं. इन भारतीयों को वापस लाने के लिए कई विशेष चार्टर के साथ-साथ भारतीय वायु सेना (India Air Force) की उड़ानें भी तैनात की गई हैं.

आज की उड़ानों का प्लान
नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने बताया कि आज 11 विशेष उड़ानों के जरिए 2200 से ज्यादा भारतीयों को वापस लाने की उम्मीद है, जिसमें 10 उड़ानें नई दिल्ली में उतरेगी तो वहीं एक फ्लाइट मुंबई में लैंड करेगी. मंत्रालय के अनुसार 5 उड़ानें बुडापेस्ट से, 2 रेजजो से और 4 सुसेवा से शुरू होंगी. चार C-17 विमान रोमानिया, पोलैंड और स्लोवाकिया के लिए हवाई हैं, जिनके कल देर रात और सुबह जल्दी पहुंचने की उम्मीद है.

कल 17 उड़ानें आईं वापिस
कल (शुक्रवार) यूक्रेन के पड़ोसी देशों से 17 स्पेशल उड़ानें भारत वापस आईं, जिनमें 14 नागरिक उड़ानें और तीन C-17 IAF उड़ानें शामिल हैं. इन उड़ानों में 3,142 लोग थे, C-17 उड़ानों ने 630 यात्रियों को निकाला. बयान के अनुसार, अब तक 43 विशेष नागरिक उड़ानों द्वारा 9,364 से अधिक भारतीयों को निकाला जा चुका है.

“सी-17 की सात उड़ानों ने अब तक 1,428 यात्रियों को निकाला है और 9.7 टन राहत सामग्री पहुंचाई है. नागरिक उड़ानों में बुखारेस्ट से 4, कोसिसे से 2, बुडापेस्ट से 4, रेजजो से 3 और सुसेवा से 2 उड़ानें शामिल हैं, जबकि आईएएफ ने बुखारेस्ट से 2 और बुडापेस्ट से 1 उड़ानें भरीं.” केंद्र ने चार केंद्रीय मंत्रियों- हरदीप सिंह पुरी, किरेन रिजिजू, ज्योतिरादित्य सिंधिया और जनरल वी.के. सिंह (रिटायर्ड) – यूक्रेन से सटे देशों को चल रहे निकासी कार्यों का समर्थन और पर्यवेक्षण करने के लिए पहुंचे हैं.