राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा बोले ‘मतदान केंद्रों पर वोटर्स की उपस्थिति लोकतंत्र को करती है मजबूत’

    299
    Election commissioner sushil chandra
    Election commissioner sushil chandra

    देशभर में आज राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जा रहा है. इस मौके पर मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा, भारत के प्रत्येक वयस्क नागरिक को वोट देने का अधिकार उसी समय दिया गया था जब भारत ने अपनी स्वतंत्रता प्राप्त की थी. 18 फीसदी साक्षरता दर वाले नए स्वतंत्र देश के लिए यह वास्तव में एक क्रांतिकारी कदम था. उन्होंने कहा, आज देश में 95.3 करोड़ से अधिक मतदाता हैं. इन मतदाताओं में 49 करोड़ पुरुष वोटर्स और 46 करोड़ महिला वोटर्स हैं. इन रजिस्टर्ड मतदाताओं में 1.92 करोड़ वरिष्ठ नागरिक हैं.

    मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा, हमने सभी पांच चुनाव वाले राज्यों में वैक्सीनेशन की गति बढ़ाने पर जोर दिया है और यह सुनिश्चित करने के लिए सभी इंतजाम किए जाएंगे कि यह चुनाव पूरी तरह सुरक्षित रहे. गौरतलब है कि पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. चुनाव की शुरुआत 10 फरवरी से होगी और इसके नतीजे 10 मार्च को आएंगे. पंजाब, गोवा और उत्तराखंड में एक चरण में मतदान होगा, जबकि मणिपुर में दो चरणों में वोट डाले जाएंगे. वहीं, उत्तर प्रदेश में सात चरणों में लोग वोट डालेंगे. इसकी शुरुआत 10 फरवरी से होगी और सात मार्च को आखिरी चरण का मतदान होगा.

    वहीं, सोमवार को मुख्य चुनाव आयुक्त ने पांच चुनावी राज्यों के मतदाताओं से अपने लोकतांत्रिक अधिकार का उत्साहपूर्वक इस्तेमाल करने की अपील की. उन्होंने कहा कि इन राज्यों में पूरी तरह कोविड सुरक्षित विधानसभा चुनाव की व्यवस्था की गई है. राष्ट्रीय मतदाता दिवस की पूर्व संध्या पर अपने संदेश में उन्होंने यह भी कहा कि मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की उपस्थिति लोकतंत्र को मजबूत करती है. चंद्रा ने कहा कि कोविड महामारी के बीच पिछले दो वर्षों में चुनाव कराना ‘बेहद चुनौतीपूर्ण’ रहा है. उन्होंने कहा कि आयोग ने चुनाव कराने के दौरान यह सुनिश्चित किया कि मत और मतदाता सुरक्षित रहें.

    दूसरी ओर, भारत निर्वाचन आयोग ने मतदाता सूची में शामिल नए मतदाताओं को डाक के माध्यम से मतदाता फोटो पहचान पत्र (ईपीआईसी) भेजने का निर्णय लिया है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि सेवा 25 जनवरी को शुरू की जाएगी. उन्होंने कहा, हम मतदाता पहचान पत्र लोगों को डाक से सीधे भेजना शुरू करेंगे. सेवा आधिकारिक तौर पर राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर शुरू की जाएगी. अधिकारी ने कहा कि आयोग नए मतदाताओं को पहचान पत्र के साथ एक किट भी भेजेगा. उन्होंने कहा कि पैकेट में ईवीएम, मतदान का तरीका समेत अन्य जानकारियां होंगी.