ओमिक्रॉन वेरिएंट ने जर्मनी में मचाया हाहाकार, 24 घंटे में 2.36 लाख केस आये सामने

    417
    Germany corona cases
    Germany corona cases

    जर्मनी में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 236,120 नए मामले दर्ज कर दिए गए हैं. ये एक दिन में अब तक के सबसे अधिक केस हैं. बताया जा रहा है कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट के बाद ये उछाल देखा गया है. जर्मनी में कोविड-19 की महामारी में लगी पाबंदियों को खत्म करने की मांग लगातार तेज हो रही है. संघीय सरकार के एक मंत्री ने कहा है कि अगले महीने से कई नियम हटाए जा सकते हैं. बुधवार को संक्रमित लोगों की संख्या 2 लाख के पार थी.

    बुधवार को एक जर्मन अखबार में प्रकाशित इंटरव्यू में न्याय मंत्री मार्को बुशमान ने कहा है, ‘मुझे उम्मीद है कि मार्च में बहुत सारे सुरक्षात्मक उपायों को वापस लिया जा सकता है.’ हालांकि बुशमान ने यह भी कहा कि यह इस बात पर निर्भर करेगा कि क्या, ‘नए संक्रमण के मामले फरवरी के मध्य से दोबारा गिरने शुरू होते हैं.’ बुशमान ने ध्यान दिलाया है कि जर्मनी में बीमारियों के नियंत्रण के लिए जिम्मेदार संस्था रॉबर्ट कॉख इंस्टीट्यूट ने ऐसा होने की उम्मीद जताई है. न्याय मंत्री ने सावधान किया कि अगर कोरोना वायरस का कोई नया वेरिएंट सामने आता है तो हालात बदल सकते हैं.

    जर्मनी में कोरोना को लेकर लगाई गई पाबंदियों का फैसला मोटे तौर पर देश के 16 राज्यों की सरकारों के जिम्मे है. हालांकि संघीय सरकार राज्य सरकारों के प्रमुखों से लगातार मुलाकात करती है ताकि उनकी नागरिक स्वास्थ्य नीति पर सहयोग किया जा सके. जर्मन चांसलर ओलाफ शोल्त्स की क्षेत्रीय नेताओं से अगली मुलाकात 16 फरवरी को होनी है. पिछली बैठक 24 जनवरी को हुई थी. इस बैठक में पाबंदियों से जुड़े नियमों को लेकर यथास्थिति बरकरार रखने पर सभी नेताओं ने सहमति जताई थी.

    जर्मनी में फिलहाल बेहद संक्रामक ओमिक्रॉन वेरिएंट के कारण संक्रमण के मामलों में आई तेजी की वजह से बहुत सारी पाबंदियां जारी हैं. नाइटक्लब और इस तरह की कई जगहें पूरी तरह से बंद हैं तो रेस्तरां और बार में जाने के लिए ग्राहकों को दिखाना पड़ता है कि उन्हें वैक्सीन लगाई गई है या फिर संक्रमित हो कर अब ठीक हो गए हैं. हाल में कराए गए टेस्ट की रिपोर्ट दिखा कर भी वो ऐसी जगहों पर जा सकते हैं. जिन लोगों ने बूस्टर डोज ले ली है उन्हें टेस्ट कराने से फिलहाल छूट मिली हुई है. जिन लोगों ने वैक्सीन नहीं लिया है उन्हें फिलाहल रेस्तरां या बार समेत कई दुकानों में भी जाने की अनुमति नहीं है. बहुत से लोग इन पाबंदियों का विरोध कर रहे हैं.