Omicron in India: ब्रिटेन और अन्य ओमीक्रोन प्रभावित देशों से नोएडा आए पांच यात्री कोरोना संक्रमित

    184
    Corona Third wave

    कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन (Omicron) का खतरा लगातार बढ़ता ही जा रहा है. दुनियाभर के कई देशों में इसके मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. भारत में भी लगातार संक्रमण के नए-नए मामले सामने आते जा रहे हैं. अब खबर है कि ब्रिटेन (United Kingdom) और अन्य ओमीक्रोन संक्रमित देशों से लौटे पांच यात्री कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) पाए गए हैं. हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि वह कोरोना (Omicron) के ओमीक्रोन वेरिएंट से संक्रमित हैं या किसी अन्य वेरिएंट से. गौतम बुध नगर (Gautam Budh Nagar) के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (CMO)डॉ. सुनील शर्मा (Dr. Sunil Sharma) ने बुधवार को यह जानकारी दी. गौरतलब है कि कि ब्रिटेन में ओमीक्रोन बहुत तेजी से फैल रहा है और ओमीक्रोन से दुनिया में पहली मौत भी ब्रिटेन में ही हुई है. विशेषज्ञों का मानना है कि गर्मियों से पहले ब्रिटेन में ओमीक्रोन के कारण 75 हजार तक मौतें हो सकती हैं.

    सीएमओ डॉ. सुनील शर्मा ने बताया कि हाल ही में ब्रिटेन से गौतम बुध नगर आए पांच यात्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. बता दें कि ब्रिटेन ओमीक्रोन के लिए एट रिस्क देशों में है. इनमें से सिंगापुर से आए यात्री भी शामिल हैं. बता दें कि दिल्ली में मंगलवार को ही चार और व्यक्ति ओमीक्रोन से संक्रमित पाए गए हैं. महाराष्ट्र में भी मंगलवार को 8 नए मरीजों में ओमीक्रोन वेरिएंट की पुष्टि हुई है. इस तरह से देश में ओमीक्रोन संक्रमितों का आंकड़ा 61 तक पहुंच गया है.

    अभी तक देश में ओमीक्रोन संक्रमितों की कुल संख्या की बात करें तो इसमें महाराष्ट्र सबसे आगे है. महाराष्ट्र में कुल 28 लोग ओमीक्रोन से संक्रमित हैं, जबकि राजस्थान में 17 मरीजों में ओमीक्रोन की पुष्टि हुई है. कर्नाटक में 3, गुजरात में 4, केरल में 1, आंध्र प्रदेश में 1, चंडीगढ़ में 1 और राजधानी दिल्ली में कुल 6 मामले अब तक ओमीक्रोन संक्रमण के सामने आ चुके हैं.

    गौरतलब है कि कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन का पहला मामला 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका में रिपोर्ट किया गया था. इस वेरिएंट को B.1.1.529 इस कोड नाम से जाना जा रहा था, इसके बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 26 नवंबर को इस वेरिएंट को ओमीक्रोन वेरिएंट का नाम दिया था और इसे वेरिएंट ऑफ कंसर्न कहा था. 24 नवंबर को जिस व्यक्ति में ओमीक्रोन वेरिएंट की पुष्टि हुई थी, उसका सैंपल 9 नवंबर को ही ले लिया गया था.