नितिन गडकरी: प्रोजेक्ट में देरी के जिम्मेदारों पर कार्रवाई जरूरी

258
nitin gadkari
nitin gadkari

केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने प्रोजेक्ट निर्माण में लेटलतीफी पर सख्त नाराजगी जताई है। उन्होंने इस तरह की देरी के जिम्मेदार अधिकारियों को एनपीए बताया और कहा कि इन्हें तत्काल सेवा से बर्खास्त किया जाना चाहिए।

एनएचएआई के नए भवन के उद्घाटन अवसर पर गडकरी ने कहा कि इसका निर्माण पूरा होने में 9 साल लग गए। इस तरह की लेटलतीफी करने वलो अधिकारियों को तत्काल बाहर का रास्ता दिखाया जाना चाहिए। एनएचएआई लापरवाह अधिकारियों की नर्सरी बन गया है। ये रवैया अब बदलने की जरूरत है। इस तरह की देरी के लिए मुख्य महाप्रबंधक और महाप्रबंधक स्तर के अधिकारी ही जिम्मेदार होते हैं।
गडकरी ने सख्त लहजे में कहा, एनएचएआई के इस भवन की नींव 2011 में रखी गई थी। इस दौरान सात चेयरमैन आए और गए, जबकि वर्तमान आठवें चेयरमैन एसएस संधू के कार्यकाल में काम पूरा हो सका। इस तरह की लेटलतीफी पर शोध पत्र तैयार किया जाना चाहिए जिसमें देरी के जिम्मेदार सभी मुख्य महाप्रबंधकों और महाप्रबंधकों की तस्वीर लगाई जाए।

उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि ऐसे अधिकारियों को सार्वजनिक रूप से सम्मानित किए जाने की जरूरत है। कहा, जब 1 लाख करोड़ की लागत से बनने वाले दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे को तीन साल में पूरा करने का लक्ष्य है, तो एक भवन निर्माण में 9 साल का समय कैसे लग सकता है।