ENG vs NZ: 22 साल के बाद न्यूजीलैंड ने इंग्लैंड को उनकी धरती पर टेस्ट सीरीज में हराया, खिताब जीतकर बनी नंबर वन टेस्ट टीम

245

इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच बर्मिंघम में खेले गए टेस्ट मैच में कीवियों ने मेजबान टीम को 8 विकेट से हरा दिया। इस जीत के साथ ही न्यूजीलैंड ने 2 टेस्ट मैचों की सीरीज 1-0 से जीत ली। इंग्लैंड की धरती पर न्यूजीलैंड ने 22 साल बाद टेस्ट सीरीज जीती है। इससे पहले दोनों टीमों के बीच लॉर्ड्स पर खेला गया टेस्ट ड्रॉ रहा था।

 
इससे पहले टेस्ट मैच के चौथे दिन इंग्लैंड के नाबाद बल्लेबाज जेम्स एंडरसन और ओली स्टोन बल्लेबाजी करने उतरे। लेकिन वह तीसरे दिन के स्कोर में कोई इजाफा नहीं कर पाए। इंग्लैंड का 10वां और आखिरी विकेट 122 रनों पर ही गिर गया। इंग्लिश टीम की तरफ से 10वें विकेट के रूप में ओली स्टोन आउट हुए। उन्हें ट्रेंट बोल्ट ने अपना शिकार बनाया।

न्यूजीलैंड को मैच जीतने के लिए 38 रनों का लक्ष्य मिला। कीवियों की शुरुआत ठीक नहीं रही और पहला विकेट 6 रनों पर गिर गया। उसके बाद 8 रन पर विल यंग भी चलते बने। 
न्यूजीलैंड के 2 विकेट जल्दी गिरने के बाद ऐसा लगा कि इंग्लैंड कुछ करिश्मा करेगा। लेकिन कप्तान टॉम लॉथम ने किसी तरह की अऩहोनी से टीम को बचा लिया। इंग्लैंड की ओर से स्टुअर्ट ब्रॉड और ओली स्टोन ने 1-1 विकेट लिया। 
 
न्यूजीलैंड को इंग्लैंड की धरती पर टेस्ट सीरीज जीतने के लिए 22 साल इंतजार करना पड़ा। इससे पहले कीवियों ने साल 1999 में इंग्लैंड में सीरीज जीती थी। दूसरे टेस्ट में कप्तानी कर रहे टॉम लाथम ने मैच के बाद कहा, हमने बेहतरीन प्रदर्शन किया, इन चार दिनों में हमने गजब की क्रिकेट खेली। वहीं जो रूट अपनी कप्तानी में इंग्लैंड की धरती पर पहली बार टेस्ट सीरीज हारे हैं। 
 
वहीं आंकड़ों की बात करें तो न्यूजीलैंड ने इंग्लैंड में तीसरी बार टेस्ट सीरीज जीती है। इससे पहले कीवी टीम ने 1986 और 1999 में टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड को उनके घर में हराया था। न्यूजीलैंड को सीरीज जिताने में उसके तेज गेंदबाजों का अहम योगदान रहा। बर्मिंघम टेस्ट में 6 विकेट लेने वाले मैट हेनरी को प्लेयर ऑफ द मैच के अवार्ड से नवाजा गया। वहीं डेवोन कॉन्वे और रोरे बर्न्स को सीरीज में शानदार बल्लेबाजी करने के लिए संयुक्त रूप से प्लेयर ऑफ द सीरीज के पुस्कार से पुरस्कृत किया गया।