मुंबई में Omicron के बढ़ते मामलों के चलते धारा 144 लागू, रैली और मोर्चा निकालने पर लगी प्रतिबंध

    340
    omicron-cases

    महाराष्ट्र में शुक्रवार को साढ़े तीन साल की बच्ची सहित ओमिक्रॉन के सात नए मामले(Omicron in maharashtra) सामने आए हैं. इनमें तीन मामले मुंबई में सामने आए हैं, जिनकी क्रमशः तंजानिया, यूके और दक्षिण अफ्रीका-नैरोबी की ट्रैवल हिस्ट्री है. यह सभी 48, 25 और 37 वर्ष की आयु के पुरुष हैं. इन नए मामलों के साथ ही मुंबई में ओमिक्रॉन (Omicron in mumbai) रोगियों की संख्या पांच हो गई है. अब महाराष्ट्र (Maharashtra) में मरीजों की संख्या 17 हो गई है, जबकि देश में (Omicron in india) अब तक 32 मामले सामने आ चुके हैं.

    मुंबई में दो दिनों तक बड़ी सभाओं पर लगा प्रतिबंध

    न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक मुंबई में पुलिस ने बड़ी सभाओं पर दो दिन का प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया है. एक अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि मुंबई शहर में यह प्रतिबंध लगाए गए हैं, जिसके तहत अगले दो दिनों के लिए सभी तरह की लोगों और वाहनों की रैलियों और विरोध मार्चों पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है.

    उन्होंने कहा कि पुलिस उपायुक्त (संचालन) द्वारा जारी आदेश शनिवार और रविवार को 48 घंटे तक प्रभावी रहेगा. यह फैसला COVID-19 के नए ओमिक्रॉन वेरिएंट से मानव जीवन के लिए खतरे को रोकने और अमरावती, मालेगांव और नांदेड़ में हुई हिंसा के मद्देनजर कानून व्यवस्था बनाए रखने के उद्देश्य से लिया गया है.

    स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि बृहन्मुंबई नगर निगम के अनुसार, तंजानिया से लौटा 48 वर्षीय यात्री घनी आबादी वाले धारावी क्षेत्र का निवासी है, लेकिन लोगों के बीच जाने से पहले उसे किसी तरह के लक्षण नहीं थे और वह आइसोलेशन में था. 4 दिसंबर को उसकी कोविड​​-19 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई. उसने वैक्सीन की कोई भी डोज नहीं ली है, वहीं उसके संपर्क में आए दो लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है.

    महाराष्ट्र में मिले हैं सात नए ओमिक्रॉन के मरीज

    महाराष्ट्र में मिले सात नए रोगियों में से चार ने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ली हुई हैं. बयान में कहा गया है कि एक मरीज को कोरोना वायरस के टीके की एक डोज लग चुकी है, जबकि एक मरीज को टीका नहीं लगा है. वहीं तीसरा मरीज साढ़े तीन साल बच्चा है, जो कि टीकाकरण के लिए योग्य नहीं है. नए रोगियों में से चार को किसी तरह के लक्षण नहीं हैं, जबकि अन्य तीन में केवल हल्के लक्षण नजर आए हैं.