बोक्साम इंटरनेशनल मुक्केबाजी टूर्नामेंट: एमसी मैरीकॉम को सेमीफाइनल में मिली हार, कांस्य पदक से करना पड़ा संतोष, सिमरनजीत और जैसमीन पहुंचीं फाइनल में

161

छह बार की विश्व चैम्पियन एमसी मैरीकॉम (51 किग्रा) को शुक्रवार को कड़े सेमीफाइनल में अमेरिका की वर्जिनिया फुश्स से हारने के बाद स्पेन के कास्टेलोन में चल रहे 35वें बोक्साम इंटरनेशनल मुक्केबाजी टूर्नामेंट में कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा। ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुकी 37 साल की स्टार मुक्केबाज को विभाजित फैसले में हार मिली। शुरुआती तीन मिनट में दोनों मुक्केबाज एक दूसरे के हमले का इंतजार करती रहीं लेकिन दूसरे राउंड में भारतीय मुक्केबाज काफी आक्रामक हो गईं।

तीसरा राउंड और अधिक आक्रामकता भरा रहा जिसमें दोनों मुक्केबाजों ने एक दूसरे को कई मुक्के मारे लेकिन जजों ने फैसला अमेरिकी मुक्केबाज के पक्ष में कर दिया जबकि मुकाबले में उनके ज्यादातर मुक्के निशाने पर अच्छी तरह लगते हुए नहीं दिख रहे थे। इससे पहले ओलंपिक में जगह बना चुके सतीश कुमार (91 किग्रा से अधिक) और आशीष कुमार (75 किग्रा) के साथ सुमित सांगवान (81 किग्रा) ने प्रभावशाली जीत दर्ज करके सेमीफाइनल में जगह बना ली है।

सुपर हैवीवेट वर्ग में ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने वाले देश के पहले मुक्केबाज सतीश ने गुरुवार को क्वार्टर फाइनल में डेनमार्क के गिवसकोव नीलसन को 5-0 से शिकस्त दी जबकि आशीष ने इटली के रेमो सालवटी को 4-1 से हराकर पदक दौर में प्रवेश किया। सुमित सांगवान ने बेल्जियम के मोहोर अल जियाद को 4-1 से मात दी। इस प्रतियोगिता में रूस, अमेरिका, इटली और कजाखस्तान सहित 17 देशों के मुक्केबाज भाग ले रहे हैं।