कर्नाटक में डीके शिवकुमार को सीएम न बनाने पर मायावती ने दी प्रतिक्रिया, कहा – ”दलित और मुस्लिम समाज की उपेक्षा क्यों ?”

219
mayawati
mayawati

सीएम पद को लेकर कर्नाटक के जारी विवाद खत्म हुआ। इसके साथ ही शनिवार को सिद्धारमैया को प्रदेश का मुख्यमंत्री और डीके शिवकुमार ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली हैं। इस दौरान दलित समाज से आने वाले डीके शिवकुमार को सीएम पद न देने पर उत्तर प्रदेश की पूर्ण सीएम और बसपा सुप्रीमों मायावती ने कांग्रेस के इस फैसले पर सवाल उठाया है और इस फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस पार्टी का घेराव किया है।

कर्नाटक में कांग्रेस डरा सीएम पद को लेकर किये गए फैसले पर मायावती ने ट्वीट कर लिखा, “कर्नाटक विधानसभा चुनाव के बाद मंत्रिमण्डल में डीके शिवकुमार को उपमुख्यमंत्री बनाकर कांग्रेस ने अपनी अंदरूनी कलह को थोड़ा दबाने का प्रयास किया है, लेकिन दलित और मुस्लिम समाज की उपेक्षा क्यों, जबकि इन दोनों वर्गों ने एकजुट होकर कांग्रेस को वोट देकर विजयी बनाया.”

आम जनता से मायावती ने कही ये बात

एक दूसरे ट्वीट में बसपा सुप्रीमो ने आगे लिखा, “कांग्रेस की ओर से कर्नाटक में सीएम पद के लिए दलित समाज की उठी दावेदारी को पूरी तरह से अनदेखी करने के बाद अब किसी भी दलित और मुस्लिम को डिप्टी सीएम नहीं बनाना, यह इनकी जातिवादी मानसिकता को दर्शाता है अर्थात इनको यह वर्ग केवल अपने खराब दिनों में ही याद आते हैं, ये लोग सतर्क रहें.”

दूसरी बार सीएम पद का पदभार सँभालेंगे सिद्धारमैया

आपको बता दें कि, शनिवार को कर्नाटक के कांटीरावा स्टेडियम में चल रहे समारोह में राज्यपाल थावरचंद गहलोत ने सिद्धारमैया को सीएम और डीके शिवकुमार को डिप्टी सीएम पद की शपथ दिलाई। सिद्धारमैया का सीएम के पद पर यह दूसरा कार्यकाल शुरू हो रहा हैं। उन्हें 2013 में पहली बार सीएम पद का पदभार संभाला था। यह कार्यकाल 2013 से 2018 तक रहा है।