Monsoon session: मनोज झा ने बाबा रामदेव पर साधा निशाना- कोरोना काल में आयुर्वेद का गलत इस्तेमाल किया गया

560

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के सांसद मनोज झा ने बिना नाम लिए योग गुरु बाबा रामदेव पर निशाना साधा है. राज्यसभा में आयुर्वेद शिक्षण और अनुसंधान संस्थान विधेयक, 2020 पर चर्चा के दौरान मनोज झा ने कहा कि कोरोना काल में आयुर्वेद का गलत इस्तेमाल किया गया है. सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए. मनोज झा का ये निशाना बाबा रामदेव की जून में लाई गई उस दवा को लेकर था, जिसमें दावा किया गया था कि वो कोरोना की दवा है. हालांकि विवाद बढ़ने के बाद उसे इम्युनिटी बूस्टर बताया गया.

मनोज झा ने बुधवार को राज्यसभा की कार्यवाही के दौरान कहा कि सरकार को आयुर्वेद को लेकर एक राष्ट्रीय स्तर के संस्थान के बारे में सोचना चाहिए. मनोज झा ने अपने भाषण में बिना नाम लिए योग गुरु बाबा रामदेव पर निशाना साधा.

उन्होंने कहा कि कोरोना काल में जून के महीने में एक पल ऐसे आया, जब एक महापुरुष ने कहा कि उन्होंने कोरोना की दवाई बना ली है. उनके बयान के बाद टीवी में डिबेट होने लगे. बाद में कहा गया ये एक इम्युनिटी बूस्टर है. आरजेडी नेता ने कहा कि उनका (बाबा रामदेव) कोई नुकसान नहीं हुआ. उनकी दवाइयां बिक गईं. कोरोना काल में किस तरह से आयुर्वेद का गलत इस्तेमाल किया गया है, इसका सरकार को ध्यान रखना चाहिए.

बता दें कि योग गुरु बाबा रामदेव ने जून के आखिर में आयुर्वेदिक दवा कोरोनिल की लॉन्चिंग की थी. रामदेव ने दावा किया था कि ये दवा कोरोना वायरस का इलाज कर सकती है. रामदेव के दावे को लेकर विवाद हो गया था. दवा को लेकर बाद में आयुष मंत्रालय ने कहा था कि इसे इम्युनिटी बूस्टर के तौर पर बेचा जा सकता है, लेकिन कोरोना की दवा नहीं बताया जा सकता.