मंत्री नारायण राणे की मुश्किलें और बढ़ी – अब नासिक पुलिस ने नोटिस भेजकर 2 सितंबर को थाने में पेशी के लिए बुलाया

296
narayan-rane
narayan-rane

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे (Union Minister Narayan Rane) की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. मंगलवार को उन्हें सीएम उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) के खिलाफ अपशब्द कहने के मामले में मुंबई पुलिस (Mumbai Police) ने गिरफ्तार किया था. बाद में उन्हें जमानत (Bail) मिल गई. अब नासिक पुलिस (Nashik Police) ने केंद्रीय मंत्री नारायण राणे को उनके खिलाफ प्राथमिकी के सिलसिले में नोटिस भेजकर 2 सितंबर को थाने में पेश होने को कहा है.

राणे के घर पर मंगलवार को हंगामा करने वालों से सीएम उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे ने मुलाकात की है. जुहू में कल शिवसैनिकों ने राणे के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया था. य हां उनके खिलाफ आपत्तिजनक पोस्टर भी लगी थे. इसके बाद अब मुंबई में केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के आवास के बाहर पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं.

चार मामले हुए दर्ज
राणे पर चार मामले पुणे, नासिक, ठाणे और महाड में दर्ज हैं. वहीं बुधवार को नारायण राणे के घर से वकीलों की एक टीम निकली है. जानकारी के अनुसार राणे पर दर्ज सभी मामलों को खारीज करने की याचिका मुंबई हाईकोर्ट में आज दायर की जाएगी. इसी सिलसिले में जरुरी कागजी कार्रवाई और अन्य औपचारिकता पूरी करने के लिए वकील अनिकेत निकम की एक टीम यहां आई थी.

ये है विवाद
नारायण राण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सीएम उद्धव ठाकरे को थप्पड मारने की बात कही थी. उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता दिवस वाले दिन बाजू में खड़े सेक्रेटरी से उद्धव ठाकरने पूछते हैं कि देश को स्वतंत्र हुए कितने साल हुए. मैं होता तो उन्हें कान के नीचे थप्पड़ मार देता. ये कया तुम्हे तुम्हारे देश के स्वतंत्र हुए कितने साल हुए हैं इसकी जानकारी नहीं है.

यहां से शुरु हुआ विवाद
15 अगस्त के मौके पर सीएम उद्धव ठाकरे बोलते बोलते भूल गए थे कि देश आजादी की हीरक जयंती मना रहा है या अमृत महोत्सव. उद्धव ठाकरे की इसी बात को लेकर राणे ने तंज कसा तो इसपर शिवसैनिक भड़क गए. पुणे से लेकर मुंबई और औरंगाबाद तक शिवसैनिक बैनर और झंडे लेकर सड़कों पर उतर आए. मंगलवार को कहीं दोनों दलों (बीजेपी और शिवसेना) कार्यकर्ता भिड़े तो कही बीजेपी कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच नोंक-झोंक हुई.