महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सीएम उद्धव ठाकरे को लिखी चिट्ठी, कहा- मेरे ऊपर लगे सभी आरोपों की हो जांच पड़ताल

385

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने जिस तरह से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर गृहमंत्री अनिल देशमुख पर गंभीर आरोप लगाए हैं, उसके बाद से महाराष्‍ट्र की सियासत में भूचाल आ गया है. परमबीर सिंह ने उद्धव ठाकरे को लिखे पत्र में कहा है कि गृह मंत्री देशमुख ने हर महीने 100 करोड़ रुपये की डिमांड रखी थी. हालांकि परमबीर सिंह के आरोपों को अन‍िल देशमुख ने खारिज कर दिया है और अब राज्‍य के मुख्‍यमंत्री से सभी आरोपों की जांच करने को कहा है. उन्‍होंने कहा कि जब आरोपों की जांच होगी तो दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा. वहीं इस मामले में परमबीर सिंह आज हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटा सकते हैं.

महराष्‍ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर इस पूरे मामले की निष्‍पक्ष जांच कराने को कहा है. उन्‍होंने कहा कि जांच के बाद दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा. उन्‍होंने कहा कि अगर राज्‍य के मुख्‍यमंत्री इस मामले में जांच के आदेश देते हैं तो मैं इसका स्वागत करूंगा. दरअसल परमबीर सिंह के आरोपों के बाद से विपक्ष लगातार सरकार पर हमलावर है और गृह मंत्री देशमुख के इस्तीफे की मांग कर रहा है.

मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह ने दावा किया है कि अनिल देशमुख ने सचिन वाझे को 100 करोड़ रुपये का टारगेट दिया था. परमबीर सिंह ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि 100 करोड़ रुपये टारगेट को पूरा करने के लिए मुंबई के बार, पब और रेस्टोरेंट से वसूली करने को कहा गया था. चिट्ठी के मुताबिक, इस टारगेट पर सचिन वाझे ने कहा था कि वो 40 करोड़ रुपये तो पूरा कर सकते हैं लेकिन 100 करोड़ बहुत ज्यादा है. परमबीर सिंह ने दावा किया कि 100 करोड़ का टारगेट पूरा करने के लिए अनिल देशमुख ने सचिन वाझे को दूसरे तरीके इजाद करने के लिए कहा था.

अनिल देशमुख के खिलाफ सीबीआई जांच की मांग कर रहे परमबीर सिंह आज बॉम्‍बे हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटा सकते हैं. बता दें कि इससे पहले परमबीर सिंह सुप्रीम कोर्ट जा चुके हैं लेकिन सुनवाई के दौरान उच्चतम न्यायालय ने कहा, महाराष्‍ट्र के गृहमंत्री पर लगाए गए आरोप काफी गंभीर हैं लेकिन इस मामले को पहले हाईकोर्ट से सामने रखना होगा. सुप्रीम कोर्ट ने इस बात पर भी सवाल उठाए कि परमबीर सिंह ने अपनी याचिका में देशमुख को पक्ष क्यों नहीं बनाया? अब परमवीर सिंह बॉम्बे हाईकोर्ट जा सकते हैं.

मुंबई पुलिस के एपीआई सचिन वाजे को आज एनआईए कोर्ट में पेश किया जाएगा. एनआईए कोर्ट ने उन्हें 25 मार्च तक के लिए पुलिस कस्टडी में भेजा था. खबर है कि एनआईए एक बार फिर सचिन वाजे की कस्‍टडी बढ़ाने की मांग करेगी. सचिन वाजे को 14 मार्च को गिरफ्तार किया गया था. इससे पहले सचिन वाजे ने ठाणे की एक अदातल में अग्रिम जमानत दाखिल की थी, लेकिन कोर्ट ने इसे खारिज कर दिया था