Tauktae Update: केरल, कर्नाटक, गोवा में चक्रवात ‘तौकते’ ने मचाई तबाही, अब गुजरात की ओर बढ़ रहा है तूफ़ान, अब तक 6 की मौत

    687

    केरल, कर्नाटक और गोवा के तटीय इलाकों में तबाही मचाने के बाद चक्रवात ‘तौकते’ उत्तर में गुजरात की ओर बढ़ गया. चक्रवात के चलते तटीय इलाकों में तेज हवाओं के साथ ही भारी बारिश हुई और समुद्र में ऊंची लहरें उठीं. चक्रवात के कारण हुई घटनाओं की चपेट में आकर 6 लोगों की मौत हो गई, जबकि सैकड़ों घरों का नुकसान पहुंचा और बिजली के खंभे एवं पेड़ उखड़ गए तथा लोगों को घरों को छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर जाना पड़ा. कई इलाकों में बिजली की आपूर्ति बाधित हुई. भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान ‘तौकते’ अगले 24 घंटे में और तीव्र हो सकता है और इसके सोमवार शाम तक गुजरात के तट पर पहुंचने की संभावना है. IMD ने एक बुलेटिन में बताया कि यह मंगलवार तड़के तक पोरबंदर और भावनगर जिले में महुवा के बीच राज्य के तट को पार सकता है. गुजरात में निचले तटीय इलाकों से करीब डेढ़ लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है, जबकि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) और राज्य आपदा मोचन बल (SDRF) की 54 टीमों को तैनात किया गया है. तौकते की वजह से पूरे गुजरात में 17 और 18 मई को कोरोना वैक्सीनेशन अभियान पर रोक रहेगी. मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने यह जानकारी दी.

    अगले 24 घंटे में और तीव्र हो सकता है ‘तौकते’

    • मौसम विभाग ने रविवार को कहा कि चक्रवात तौकते के चलते 17 मई को महाराष्ट्र के मुंबई, उत्तरी कोंकण, ठाणे और पालघर के हिस्सों में भारी से बहुत भारी बारिश होने की आशंका है. मौसम विभाग ने रायगढ़ में सोमवार को अत्यधिक भारी बारिश होने का पूर्वानुमान जताया है. चक्रवात संबंधी घटनाओं की चपेट में आकर कर्नाटक के उत्तर कन्नड़, उडुपी, चिकमगलूर और शिवमोगा जिलों में चार लोगों की मौत हो गई.
    • IMD ने केरल के तीन जिलों एर्नाकुलम, इडुक्की और मालप्पुरम के लिए रविवार को ऑरेंज अलर्ट जारी किया है, जिसका मतलब है इन जिलों में भारी बारिश हो सकती है. मध्य केरल के जिलों में कई बांधों के जलग्रहण क्षेत्रों में भारी बारिश की सूचना है जिस वजह से अधिकारियों ने चेतावनी दी है.
    • त्रिशूर प्रशासन ने कहा कि पेरिंगलकुथु बांध का जल स्तर 419.41 मीटर के पार जाता है तो बांध के शटर उठा दिए जाएंगे. एक बयान में प्रशासन ने चलकुडी नदी के तट पर रहने वाले लोगों से सतर्क रहने को कहा है.
    • जिला अधिकारियों ने कहा कि जल स्तर बढ़ने पर इडुक्की जिले में मलनकरा बांध के शटर खोल दिए जाएंगे. तटीय इलाकों में समंदर की ऊंची लहरें तबाही मचा रही हैं. तटीय इलाकों और निचले क्षेत्रों में रहने वाले सैकड़ों परिवारों के लोगों को राहत शिविरों में भेजा गया है.