उन्नाव में दिल दहलाने वाली घटना, खेत में मिले नाबालिग लड़कियों के शव, SP बोले- खुलासे के लिए गठित की गई छह टीमें, जल्द उठेगा घटना से पर्दा

    769

    उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में असोहा थाना क्षेत्र के बबुरहा गांव में दोपहर से लापता बुआ-भतीजी के शव खेत में मिले। चचेरी बहन बगल में छटपटाती मिली। सभी के गले दुपट्टे से कसे मिले। एक के पिता तीनों को उठाकर घर लाया और फिर सीएचसी ले गया।

    जहां डॉक्टरों ने बुआ-भतीजी को मृत घोषित कर चचेरी बहन को जिला अस्पताल रेफर कर दिया। एसपी व एएसपी ने फील्ड यूनिट की मदद से घटनास्थल का निरीक्षण कर परिजनों से जानकारी ली है। दुपट्टे से गला कसा होने और मुंह से झाग निकलने से परिजन हत्या की आशंका जता रहे हैं।

    सूरजपाल की 16 वर्षीय बेटी काजल बुधवार दोपहर तीन बजे चचेरे भाई संतोष रावत की बेटी 12 वर्षीय कोमल (भतीजी) व चचेरी बहन रोशनी (14) पुत्री सूरजबली के साथ घास लेने खेत के लिए निकली थी। शाम छह बजे तक तीनों के घर न लौटने पर परिजनों ने खोजबीन शुरू की।

    शाम 7:30 बजे सूरजपाल खोजबीन करते हुए घर से एक किमी दूर बबुरहा-जगदीशपुर मार्ग से सौ मीटर अंदर चचेरे भाई संतोष के सरसों के खेत में पहुंचा। तभी खेत के अंदर उसकी नजर काजल, कोमल व रोशनी पर पड़ी। तीनों अगल-बगल पड़ी कराह रही थी।
    सभी के गले उन्हीं के दुपट्टे से कसे थे और हाथ पीछे की ओर बंधे थे। मुंह से झाग निकल रहा था। यह देख सूरजपाल के होश उड़ गए। वह भागकर गांव पहुंचा और परिवार को जानकारी देकर निजी वाहन से तीनों को लेकर सीएचसी पहुंचा।

    वहां डॉक्टर ने काजल व कोमल को मृत घोषित कर दिया। रोशनी को जिला अस्पताल रेफर कर दिया। एसडीएम राजेश कुमार चौरसिया, एसपी आनंद कुलकर्णी, एएसपी वीके पांडेय, सीओ रमेश चंद्र प्रलयंकर छह थानों की पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे और घटनास्थल की जांच की।

    सुराग तलाशने के लिए खोजी कुत्ते को बुलाया गया। स्वॉट टीम भी घटनास्थल पर पहुंची। देर रात डीएम रवींद्र कुमार, एडीएम राकेश कुमार, सिटी मजिस्ट्रेट चंदन पटेल व प्रभारी सीएमओ तन्मय कक्कड़ जिला अस्पताल पहुंचे। रोशनी के भाई विशाल से घटना की जानकारी ली।