लक्षद्वीप ने हासिल किया बड़ा मुकाम – 15 से 18 साल के बच्चों का 100 फीसदी वैक्सीनेशन पूर्ण किया, ऐसा करने वाला बना देश का पहला UT

344
vaccination

देश में इस समय कोरोना वायरस (Coronavirus) की तीसरी लहर चल रही है. इससे मुकाबले के ल‍िए केंद्र और राज्‍य सरकार की तैयारियां जोरों-शोरों से चल रही हैं. 3 जनवरी से देश में 15 साल से 18 साल के बच्चों को भी कोरोना से बचने के लिए वैक्‍सीन डोज दी जा रही है. इस कड़ी में लक्षदीप (Lakshadweep) में बड़ा मुकाम हासिल किया है. लक्षद्वीप में 15 से 18 वर्ष की आयु के सभी पात्र बच्चों का टीकाकरण (Vaccination) 100 फीसदी पूरा हो गया है. इसके साथ ही यह केंद्र शासित प्रदेशों और राज्यों में यह उपलब्धि हासिल करने वाला पहला केंद्र शासित प्रदेश बन गया है.

लक्षद्वीप के एडमिनिस्ट्रेटर ने तीन जनवरी को बच्चों के वैक्सीनेशन ड्राइव की शुरुआत की थी. लक्ष्यदीप के कलेक्टर और सचिव एस अस्कर अली द्वारा जारी लेटर के अनुसार, राज्य में 15 से 18 साल तक के 3492 बच्चों को वैक्सीन दी जा चुकी है. उन्‍होंने बताया कि वैक्सीनेशन के प्रति जागरूकता लाने के लिए स्कूल के साथ-साथ हर जगह पर कैंपेन चलाए गए थे. केंद्र शासित प्रदेश में अब प्रिकॉशन डोज भी लगाई जा रही है.

देशभर में कितनी हुई वैक्सीनेशन
पिछले 24 घंटों में 76 से अधिक वैक्सीन की खुराक देने के साथ ही भारत का कोविड-19 टीकाकरण 153.70 करोड़ से अधिक हो गया है. देशव्यापी टीकाकरण अभियान के हिस्से के रूप में केंद्र सरकार राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को नि:शुल्क कोविड टीके प्रदान करके उन्हें पूर्ण सहयोग दे रही है और कोरोना के खिलाफ जंग में मजबूत भागेदारी निभा रही हैं.

टीकाकरण की गति को बढ़ाने का प्रयास कर रही केंद्र सरकार
स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि केंद्र सरकार देशभर में कोविड-19 टीकाकरण का दायरा बढ़ाने और लोगों को टीके लगाने की गति को तेज करने के लिए लगातार प्रयासरत है. टीकाकरण अभियान की रफ्तार को अधिक से अधिक टीके की उपलब्धता के जरिए बढ़ाया गया है. इसके तहत राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को टीके की उपलब्धता के बारे में पूर्व सूचना प्रदान की जाती है, ताकि वे बेहतर योजना के साथ टीके लगाने का बंदोबस्त कर सकें और टीके की सप्लाई चैन को दुरुस्त किया जा सके.