Kashi Dev Deepawali 2020: किसान आंदोलन के बीच PM मोदी का विपक्ष पर वार, कृषि कानूनों को लेकर भ्रम फैलाने का चल रहा है खेल

894

नए कृषि कानूनों के खिलाफ हो रहे किसान आंदोलन के बीच सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देव दीपावली के मौके पर वाराणसी से किसानों को याद करते हुए कृषि कानूनों के फायदे गिनाए। उन्हाेंने विपक्ष पर वार करते हुए कहा कि भ्रम फैलाने वालों की सच्चाई देश के सामने आ रही है। नए कानून से किसानों को छल से बचाने को विकल्प मिला है। किसानों को नए प्रकल्प और विकल्प दोनों साथ साथ चलें तभी देश का कायाकल्प होता है। सरकारें नीतियां बनाती हैं। नीतियों पर सवाल उठता है तो उसका लाभ होता है। लेकिन पिछले कुछ समय से अलग ही देखने को मिल रहा है। पहले सरकार का फैसला लोगों को पसंद नहीं आता था तो विरोध होता था। अब विरोध का आधार फैसला नहीं बल्कि, भ्रम फैलाकर, आशंकाए फैलाकर प्रचार किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भविष्य को लेकर आशंकाएं फैलाई जा रही हैं। जो हुआ ही नहीं है, जो होगा ही नहीं, उसे लेकर समाज में भ्रम फैलाया जा रहा है। ऐसा ही कृषि सुधारों के मामले में भी जानबूझकर खेल खेलाजा रहा है। यह वही लोग हैं, जिन्होंने दशकों तक किसानों के साथ छल किया है। पीएम मोदी ने कहा कि एमएसपी की घोषणाएं बहुत होती थी लेकिन खरीद नहीं होती थी। किसानों के नाम पर कर्ज माफी के पैकेज घोषित किये जाते थे लेकिन छोटे किसानों तक यह पहुंचते ही नहीं थे। कर्ज माफी के नाम परछल किया गया। किसानों के नाम पर योजनाएं देते थे लेकिन छल होता था। वो खुद मानते थे कि एक रुपये में केवल 15 पैसा ही पहुंचता था। यूरिया खाद के नाम पर भी छल किया जाता था। किसान के नाम पर किसी और को फायदा पहुंचाया जाता था। यही खेल लंबे समय तक देश में चलता रहा है।