झारखण्ड में भी 16 जनवरी से 129 केंद्रों पर होगी कोरोना टीकाकरण की लांचिंग, जानिए क्या है तैयारियां

210

कोरोना टीकाकरण के लिए इंतजार की घड़ियां खत्म हो गई हैं। 16 जनवरी को झारखंड में भी इस टीकाकरण महाअभियान की लांचिंग होगी। इसकी पूरी तैयारी कर ली गई है। हालांकि अभी राज्य स्तर पर इसकी अधिकृत घोषणा नहीं की गई है। अबतक की तैयारी के अनुसार, झारखंड में 129 केंद्रों पर इस महाअभियान की शुरुआत एक साथ होगी। केंद्र द्वारा दो-दो केंद्रों में वीडियो कान्फ्रेंसिंग की भी व्यवस्था करने को कहा गया है ताकि ऑनलाइन लांचिंग में उसे केंद्रीय स्तर पर आयोजित होनेवाले कार्यक्रम से जोड़ा जा सके।काेरोना टीकाकरण अभियान की लांचिग को लेकर केंद्र के पदाधिकारियों द्वारा राज्य के पदाधिकारियों के साथ लगातार वीडियो कान्फ्रेंसिंग की जा रही है।

शनिवार को भी केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने इसे लेकर वीडियो कान्फ्रेंसिंग कर तैयारियों का जायजा लिया। रविवार को भी इसे लेकर वीडियो कान्फ्रेंसिंग निर्धारित है। बता दें कि झारखंड में चरणबद्ध ढंग से 99.89 लाख लोगों को कोरोना का टीका लगाने की तैयारी है। हालांकि पहले चरण में लगभग 1.5 लाख हेल्थ केयर वर्कर्स तथा आंगनबाड़ी सेविकाओं काे कोरोना का टीका लगाया जाएगा। इसके बाद चिह्नित दो लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगाया जाएगा। अगले चरण में 50 साल से अधिक उम्र के लगभग 62.97 लाख लोगों तथा 50 साल से अधिक उम्र वाले वैसे लोगों जो मधुमेह, उच्च रक्तचाप, कैंसर और फेफड़े के रोग से ग्रसित हैं, उन्हें टीका लगाया जाएगा। इनकी अनुमानित संख्या लगभग लगभग 33.42 लाख है।

सरकारी व निजी अस्पतालों के चिकित्सक, नर्स, पारा मेडिकल कर्मी, एमपीडब्ल्यू, सहिया, एएनएम, आंगनबाड़ी सेविका, लैब तकनीशियन, फार्मासिस्ट, एक्सरे तकनीशियन, मेडिकल छात्र, चिकित्सा शिक्षक, शोधकर्ता, सफाई कर्मी, अस्पतालों के तमाम स्टाफ आदि।

राज्य और केंद्र सरकार के पुलिस जवान, सशस्त्र बल, होमगार्ड, जेल कर्मचारी, आपदा प्रबंधन समन्वयक, नागरिक सुरक्षा संगठन, निकाय कर्म, राजस्व अधिकारी व अन्य कर्मी।

275 वैक्सीन भंडार पूरे देश में कोरोना टीकाकरण के लिए बनाए गए हैं। इनमें राज्य स्तर पर एक और क्षेत्रीय स्तर पर दो वैक्सीन भंडार के अलावा सभी 24 जिलों में एक-एक और 248 सामूहिक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में वैक्सिंग भंडार बनाए गए हैं।- 7500 वैक्सीनेटर टीकाकरण कार्य के लिए प्रशिक्षित किए गए हैं।

ड्राई रन पूरा राज्य में दो दौर के हुए ड्राई रन के जरिए टीकाकरण के लिए केंद्र द्वारा बनाए गए ऐप कोविड वैक्सीन इंटेलिजेंस नेटवर्क (काेविन) का भी टेस्ट किया गया। कोविन के जरिए ही उन लाभुकों का रजिस्ट्रेशन हुआ है जिन्हें टीका लगनी है। लाभुकों की इस ऐप के माध्यम से रियल टाइम ट्रैकिंग भी हो सकेगी। कोविन टीकाकरण के सत्र आवंटित करने, लाभुकों के सत्यापन और टीकाकरण के बाद लाभुकों को प्रमाणपत्र प्रदान करने में मदद करेगा।