ISIS के बंदूकधारियों ने इराक में सेना के बैरक पर किया बड़ा हमला, 11 सैनिकों की मौत

222
ISIS
ISIS

इस्लामिक स्टेट के बंदूकधारियों ने इराक के उत्तरी बगदाद में स्थित सेना के बैरक पर हमला कर दिया है. जिसमें 11 सैनिकों की मौत हो गई. इस बात की जानकारी इराक के सुरक्षा अधिकारियों ने दी है. अधिकारियों ने कहा कि हमला अल-अजीम जिले में हुआ है, जो दियाला प्रांत में बकूबा के उत्तर में एक ओपन एरिया है. हमले के हालात को लेकर तुरंत कोई जानकारी नहीं दी गई है. यह हाल के महीनों में इराकी सेना पर हुए सबसे घातक हमले में से एक है.

एसोसिएटेड प्रेस से बात करने वाले दो अधिकारियों ने कहा कि इस्लामिक स्टेट के आतंकवादी स्थानीय समयानुसार तड़के 3 बजे बैरक में घुस गए और सैनिकों की गोली मारकर हत्या कर दी. अधिकारियों ने नाम ना छापने की शर्त पर बात की क्योंकि उन्हें आधिकारिक बयान जारी करने की मंजूरी नहीं थी. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जहां हमला हुआ, वो जगह राजधानी बगदाद के उत्तर में 120 किलोमीटर की दूरी पर है.

आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट साल 2017 में देश में काफी हद तक हरा दिया गया था. हालांकि यह कई क्षेत्रों में स्लीपर सेल के माध्यम से सक्रिय रहता है. इस सुन्नी मुस्लिम चरमपंथी समूह के आतंकवादी अब भी हिंसक घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं. ये अक्सर सुरक्षा बलों, बिजली स्टेशनों और अन्य बुनियादी ढांचे को निशाना बनाते हैं. अक्टूबर महीने में मशीनगनों से लैस आईएस आतंकवादियों ने दियाला प्रांत के शिया बहुल गांव पर हमला कर दिया था. जिसमें 11 नागरिक मारे गए और कई अन्य घायल हो गए. आतंकियों ने कुछ लोगों का अपहरण कर फिरौती की रकम मांगी थी और ये रकम नहीं दिए जाने पर उन्होंने ग्रामीणों पर हमला कर दिया.

आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट साल 2017 में देश में काफी हद तक हरा दिया गया था. हालांकि यह कई क्षेत्रों में स्लीपर सेल के माध्यम से सक्रिय रहता है. इस सुन्नी मुस्लिम चरमपंथी समूह के आतंकवादी अब भी हिंसक घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं. ये अक्सर सुरक्षा बलों, बिजली स्टेशनों और अन्य बुनियादी ढांचे को निशाना बनाते हैं. अक्टूबर महीने में मशीनगनों से लैस आईएस आतंकवादियों ने दियाला प्रांत के शिया बहुल गांव पर हमला कर दिया था. जिसमें 11 नागरिक मारे गए और कई अन्य घायल हो गए. आतंकियों ने कुछ लोगों का अपहरण कर फिरौती की रकम मांगी थी और ये रकम नहीं दिए जाने पर उन्होंने ग्रामीणों पर हमला कर दिया.

इराक और पड़ोसी देश सीरिया में हाल के महीनों में आईएस के हमले बढ़े हैं. जहां आतंकी संगठन एक बार फिर अपने पैर पसारता जा रहा है. गुरुवार शाम को आईएस के आतंकवादियों (IS Terrorist Attack in Syria) ने पूर्वोत्तर सीरिया में एक डिटेंशन सेंटर (हिरासत में रखे जाने वाली जगह) पर हमला कर दिया था और वहां बंद अपने आतंकियों को रिहा कराने की कोशिश की. हसाकेह शहर में गेरवान जेल में करीब 3000 कैदी रहते हैं, इसका नियंत्रण कुर्द नेतृत्व वाले बलों के पास है. इनका कहना है कि कैदियों ने दंगा किया और भागने की कोशिश की. बंदूकधारियों ने सुरक्षा बलों के साथ भी हाथापाई की थी.