India-US 2+2 Dialogue: अमेरिका का बड़ा बयान – रूस से तेल-गैस खरीदना प्रतिबंध का उल्लंघन नहीं, बड़े हथियार ना खरीदें देश

971
India-US 2+2 Dialogue

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच सोमवार को वर्चुअल मीटिंग हुई. दोनों नेताओं की बातचीत में सबसे ज्यादा जोर रूस और यूक्रेन युद्ध पर रहा. भारत ने इस दौरान बूचा नरसंहार की निंदा भी की. बाइडेन और पीएम मोदी ने रूस-यूक्रेन युद्ध पर चिंता जताई और हमले तुरंत रोकने की अपील की. इस मीटिंग में मोदी से बातचीत के बाद जो बाइडेन ने ट्वीट किया कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात हुई. भारत और अमेरिका रक्षा और आपसी साझीदारी बढ़ाने को लेकर प्रतिबद्ध हैं.

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बातचीत के दौरान कहा कि रूस से तेल की खरीद बढ़ाना भारत के हित में नहीं है और वह ऊर्जा आयात में और विविधता लाने में भारत की मदद करने को तैयार हैं. व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने संवाददाताओं से कहा कि बाइडन ने प्रधानमंत्री मोदी के साथ हुई डिजिटल बैठक के दौरान यह टिप्पणी की है. साकी ने मोदी-बाइडन वार्ता के तुरंत बाद अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में पत्रकारों से कहा कि वार्ता रचनात्मक रही और भारत के साथ संबंध अमेरिका और राष्ट्रपति के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं.

बैठक के दौरान बाइडन ने कहा कि रूस से अपने तेल आयात में तेजी लाना या इसे बढ़ाना भारत के हित में नहीं है. अभी भारत अपनी जरूरत का एक से दो फीसदी तेल रूस से जबकि 10 फीसदी तेल अमेरिका से आयात करता है. साकी ने कहा कि अमेरिका ऊर्जा संसाधनों में और विविधता लाने में भारत की मदद करने के लिए तैयार है. उन्होंने कहा कि भारत का रूस से तेल और गैस खरीदना किसी भी प्रतिबंध का उल्लंघन नहीं है.

इसके साथ ही अमेरिका ने फिर से दोहराया है कि रूस से बड़े हथियार ना खरीदे जाएं. बता दें कि टू प्लस टू वार्ता से पहले भी अमेरिका ने चेतावनी दी थी कि रूसी हथियार ना खरीदें देश, जिसपर भारत ने कहा था कि रूसी हथियारों के विकल्प बहुत महंगे हैं.