IND vs SL, 1st Test Day-1 : भारत ने पहले दिन बनाए 357 रन -पंत ने खेली 96 रनों की तूफानी पारी

245
INDIA VS SRILANKA

विराट कोहली अपने एतिहासिक 100वें टेस्ट में अच्छी शुरुआत के बावजूद बड़ी पारी खेलने के नाकाम रहे लेकिन विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत के आक्रामक अर्धशतक से भारत ने शुक्रवार को श्रीलंका के खिलाफ पहले क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन छह विकेट पर 357 रन बनाए। पंत सिर्फ चार रन से अपने पांचवें टेस्ट शतक से चूक गए लेकिन 97 गेंद में नौ चौकों और चार छक्कों से उनकी 96 रन की तूफानी पारी और रविंद्र जडेजा (नाबाद 45) के साथ उनकी छठे विकेट की 104 रन की साझेदारी से भारत अंतिम सत्र में 158 रन जोड़कर अपनी स्थिति मजबूत करने में सफल रहा।

दिन का खेल खत्म होने पर रविचंद्रन अश्विन 10 रन बनाकर जडेजा का साथ निभा रहे थे। चेतेश्वर पुजारा की जगह तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे हनुमा विहारी (58) ने मौके का फायदा उठाते हुए अर्धशतक जड़ा लेकिन एतिहासिक 100वां टेस्ट खेल रहे कोहली (45) अच्छी शुरुआत को बड़ी पारी में बदलने में नाकाम रहे। दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 90 रन जोड़े।

भारत ने हालांकि पांच रन के भीतर कोहली और विहारी के विकेट गंवाए जिसके बाद पंत और जडेजा ने शतकीय साझेदारी करके मेजबान टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचाया। कोहली से बड़ी पारी की उम्मीद में स्टेडियम पहुंचे लगभग पांच हजार दर्शकों का पंत ने खूब मनोरंजन किया जिन्होंने श्रीलंका के औसतम आक्रमण के खिलाफ ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की।

पंत ने बाएं हाथ के स्पिनर लसिथ एंबुलदेनिया (107 रन पर दो विकेट) के एक ओवर में 22 रन बटोरे। पंत ने इस तरह स्टेडियम में पसरे उस सन्नाटे को दूर किया जो कोहली के आउट होने के बाद कुछ देर के लिए हावी हो गया था। कोहली के लिए एतिहासिक दिन के मौके पर हालांकि पंत छाए रहे। उन्होंने एंबुलदेनिया पर मिड विकेट के ऊपर से छक्का जड़ा। वह लगभग डेढ़ सत्र में ही अपने पांचवें टेस्ट शतक के करीब पहुंच गए लेकिन अपनी आखिरी अंतरराष्ट्रीय श्रृंखला खेल रहे सुरंगा लकमल (63 रन पर एक विकेट) की गेंद पर बोल्ड हो गए।

पंत अपने 29वें टेस्ट में पांचवीं बार नर्वस नाइंटीज का शिकार हुए। एंबुलदेनिया श्रीलंका के गेंदबाजों में सबसे अधिक प्रभावी नजर आए। उन्होंने भारतीय बल्लेबाजों को समय समय पर परेशान किया लेकिन अधिक सफलता हासिल नहीं कर पाए। इससे पहले कोहली ने बाएं हाथ के तेज गेंदबाज विश्व फर्नांडो पर सीधे चौके के साथ शुरुआत की। वह 76 गेंद में 45 रन की पारी के दौरान अच्छी लय में दिखे। उन्होंने अपनी पारी में पांच चौके जड़े और इस दौरान टेस्ट क्रिकेट में आठ हजार रन भी पूरे किए। एंबुलदेनिया की लेग साइड पर पिच होकर स्पिन होती गेंद को हालांकि कोहली चूक गए और गेंद ने उनके आफ स्टंप के बेल्स गिरा दिए।

इसके बाद स्टेडियम में कुछ देर के लिए एकदम सन्नाटा सा पसर गया। ऐसा लग रहा था कि विहारी बड़ी पारी खेलेंगे लेकिन वह तेज गेंदबाज विश्व फर्नांडो की आफ साइड के बाहर की गेंद पर कड़ा प्रहार करने की कोशिश में गेंद को विकेटों पर खेल गए। विहारी ने अपनी पारी में पांच चौके मारे। सीमित ओवरों की श्रृंखला में अच्छी फॉर्म में चल रहे श्रेयस अय्यर 27 रन बनाकर धनंजय डिसिल्वा की गेंद पर एलबीडबल्यू हुए।

इससे पहले भारत ने सुबह के सत्र में तेज शुरुआत के बाद दोनों सलामी बल्लेबाजों रोहित शर्मा और मयंक अग्रवाल के विकेट गंवाकर लंच तक दो विकेट पर 109 रन बनाए। कप्तान रोहित (28 गेंद में 29 रन) और अग्रवाल (49 गेंद में 33 रन) ने शुरुआती 10 ओवर के भीतर पहले विकेट के लिए 50 रन जोड़े लेकिन अच्छी शुरुआत का फायदा उठाने में नाकाम रहे।

भारत ने हालांकि सुबह के सत्र में चार रन प्रति ओवर से अधिक की गति से रन जुटाए और लंच से पहले 15 चौके जड़े। श्रीलंका को लाहिरू कुमारा ने रोहित को आउट करके पहली सफलता दिलाई जबकि एंबुलदेनिया ने अग्रवाल को पवेलियन भेजा।