ऑटो सेक्टर के हालात में सुधार! 2021 में पहली बार 11 प्रतिशत बढ़ी यात्री वाहनों की सेल

253

कोरोना संकट पर जैसे-जैसे काबू पाया जा रहा है, वैसे-वैसे ऑटो इंडस्‍ट्री के हालात में भी तेजी से सुधार हो रहा है. यहां तक कि जनवरी 2021 में यात्री वाहनों का निर्यात महामारी से पहले के स्‍तर को भी पार कर गया है. सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स के आंकड़ों के अनुसार, जनवरी 2020 में 36,765 वाहनों का निर्यात किया गया था, जो जनवरी 2021 में 1.15 फीसदी बढ़कर 37,187 यूनिट्स पहुंच गया है.

सियाम के डायरेक्टर जनरल राजेश मेनन ने बताया कि अप्रैल 2020 से जनवरी 2021 के बीच पैसेंजर व्‍हीकल्‍स शिपमेंट 43.1 प्रतिशत कम होकर 3,28,360 इकाइयों पर था, जबकि वित्त वर्ष 2019-20 की समान अवधि में यह 5,77,036 इकाई पर था. हालांकि, पिछले वर्ष की तुलना में जनवरी 2021 में यात्री वाहनों के निर्यात में 1.15 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई. कोरोना संकट के बीच जनवरी 2021 को यात्री वाहन निर्यात में वृद्धि का पहला महीना कहा जा सकता है. 

जनवरी 2021 में मारुति सुजुकी इंडिया ने 12,345 इकाइयों का निर्यात किया, जो कुल वाहन निर्यात का 29.92 प्रतिशत था. इसके बाद हुंडई मोटर इंडिया ने पिछले महीने 8,100 इकाइयों को विदेश भेजा, जो पिछले साल इसी महीने से 19 प्रतिशत कम था. निसान मोटर इंडिया ने 4,198 इकाइयों का निर्यात किया. इसके बाद किआ मोटर्स ने 3,618 और फोर्ड इंडिया ने 2,983 इकाइयों का निर्यात किया. इस वित्त वर्ष में अप्रैल से जनवरी की अवधि के दौरान हुंडई ने 82,121 इकाइयों का निर्यात किया, जो एक साल पहले की अवधि से 47.01 प्रतिशत कम है.  

वित्त वर्ष 2019-20 की अप्रैल-जनवरी अवधि की तुलना में मारुति ने 72,166 इकाइयों को विदेश भेजा, जाे इससे पिछले साल के मुकाबले 15.55 प्रतिशत कम रहा. फोर्ड इंडिया (42,758), किआ मोटर्स (32,138), जनरल मोटर्स इंडिया (28,619), फॉक्सवैगन इंडिया (28,368) और निसान (21,938) चालू वित्त वर्ष के दौरान देश के अन्य प्रमुख यात्री वाहन निर्यातक रहे. घरेलू बाजार में पैसेंजर व्हीकल हाेलसेल में 11.14 प्रतिशत का इजाफा देखा गया. जनवरी 2020 में जहां 2,48,840 इकाइयां बेची गई थींं. वहीं, जनवरी 2021 में यह बढ़कर 2,76,554 इकाई हो गईंं. अप्रैल 2020-जनवरी 2021 के दाैरान सेगमेंट सेल की बात करें ताे 20,54,428 इकाइयों की बिक्री हुई, जो वित्त वर्ष 2019-20 की इसी अवधि में 20,54,428 इकाइयों से 13.2 प्रतिशत कम थी.