Happy Birthday Kangana Ranaut: 34 की हुईं बॉलीवुड ‘क्वीन’ कंगना रनौत, एक्टिंग के लिए छोड़ दिया था घर, कई सुपहिट फिल्में देकर बॉलीवुड में मनवाया अपना लोहा

924

बॉलीवुड की खूबसूरत अदाकारा कंगना रनोट अपना जन्मदिन 23 मार्च को मनाती हैं। उन्होंने अपने शानदार अभिनय से न केवल बॉलीवुड में अपनी अलग पहचान बनाई बल्कि दर्शकों के दिलों को भी जीता है। कंगना रनोट अब तक अकेले अपने दम पर बॉलीवुड को कई हिट फिल्में दे चुकी हैं। कंगना रनोट का जन्म 23 मार्च 1987 को हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में हुआ था। उन्होंने अपनी पूरी पढ़ाई हिमाचल से की थी।

साइंस विषय की छात्रा होने के नाते कंगना रनोट के माता-पिता चाहते थे कि वह एक बड़ी डॉक्टर बनें, लेकिन उनकी रुचि अभिनय की ओर थी। यही वजह थी जो कंगना रनोट ने महज 15 साल की उम्र में अभिनय के लिए अपना घर छोड़ दिया और मुंबई चली गईं। बतौर कलाकार उन्होंने अपने करियर की शुरुआत थिएटर से की थी। थिएटर के दौरान कंगना रनोट ने कई बड़े कलाकारों से अभिनय का ज्ञान लिया। कंगना रनोट ने अपने अभिनय की शुरुआत इमरान हाशमी की फिल्म गैंगस्टर से की थी। यह फिल्म साल 2006 में आई थी। फिल्म गैंगस्टर का निर्देशक अनुराग बासु ने किया था।

कंगना रनोट को डेब्यू फिल्म का ऑफर मिलने के पीछे भी दिलचस्प कहानी है। वेबसाइट imdb के अनुसार अनुराग बसु ने कंगना को सितंबर 2005 में एक कैफे में कॉफी पीते हुए देखा। वह उनसे बहुत प्रभावित हुए, और उन्होंने आखिरकार उन्हें अपनी फिल्म गैंगस्टर में मुख्य भूमिका के लिए साइन कर लिया। पहली ही फिल्म में कंगना रनोट ने अपने अभिनय से दर्शकों के दिलों को जीत लिया। इसके बाद उन्होंने फैशन, तनु वेड्स मनु, क्वीन, कृषि, तनु वेड्स मनु रिटर्न्स, मणिकर्णिका और पंगा जैसी कई शानदार फिल्मों में काम किया है।

कंगना रनोट ने अकेले अपने दम पर बॉलीवुड में खुद को साबित कर दिखाया और कई नेशनल अवॉर्ड, पद्मश्री जैसे कई अवॉर्ड अपने नाम किए। वह फिल्म फैशन, क्वीन, तनु वेड्स मनु रिटर्न्स, मणिकर्णिका और पंगा के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार हासिल कर चुकी हैं। फिल्मों के अलावा कंगना रनोट सोशल मीडिया पर सक्रिय रहती हैं। वह सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर बेबाकी से बोलती रहती हैं। इतना ही नहीं कंगना रनोट अपनी निजी जिंदगी के बारे में खुलासे करती रहती हैं।

हाल ही में कंगना रनोट ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर बताया था कि एक बार उनके पिता ने उन पर हाथ उठाने की कोशिश की थी, जिस पर उन्होंने अपने पिता का हाथ पकड़ लिया था। कंगना रनोट ने अपने लिखा, ‘मेरे पिता मुझे दुनिया का बेहतर डॉक्टर बनाना चाहते थे, उन्हें लगा कि वह सबसे बेहतर संस्थान में मुझे शिक्षा देकर क्रांतिकारी पिता बन गए हैं, जब मैंने स्कूल जाने से मना किया तो उन्होंने मुझे थप्पड़ मारने की कोशिश की। मैंने उनका हाथ पकड़ लिया और उनसे कहा, ‘अगर आपने मुझे थप्पड़ मारा तो मैं भी आपको थप्पड़ मारूंगी’।

कंगना रनोट यहीं नहीं रुकीं उन्होंने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा, ‘मेरे पिता के पास लाइसेंसी राइफल और गन थी। जब मैं बड़ी हो रही थी तो वह डांटते नहीं थे दहाड़ते थे, मैं अंदर तक कांप जाती थी। जवानी में वह अपने कॉलेज में गैंगवार के लिए मशहूर थे जिसकी वजह वह गुंडे के तौर पर मशहूर हो गए थे, मैंने उनसे तब झगड़ा किया जब मैं 15 साल की थी और मैंने घर छोड़ दिया, इसके साथ ही 15 की उम्र में पहली बागी राजपूत महिला बन गई’।