सोने-चांदी की चमक पड़ी फीकी, जारी हुए नए रेट्स, रिकॉर्ड स्तर से 11,000 रुपये सस्ता, फटाफट चेक करे आज कितनी है कीमत

430

अगर आप सोने की खरीदारी करने की सोच रहे हैं तो तुरंत खरीदारी कर लें क्योंकि इस समय सोना अपने रिकार्ड स्तर से 11,000 रुपये सस्ते रेट पर मिल रहा है. यूएस फेड के ब्याज दरों में बढ़ोतरी नहीं करने के फैसले से सोने की कीमतों में जो उछाल दिखा था वो टिक नहीं पाया और एकबार फिर से सोने-चांदी की चमक फीकी पड़ने लगी है. डॉलर में मजबूती और बॉन्ड यील्ड में बढ़त ने सोने पर दबाव बनाया लेकिन क्या ये सोने-चांदी में खरीदारी का सही मौका है. तो आइए जानते हैं कि अगर आप भी कुछ दिनों में सोना खरीदने का मन बना रहे हैं तो आपको क्या करना चाहिए? क्या सोने की कीमत में अभी और गिरावट आ सकती है या इस लेवल पर सोना खरीदने का सही मौका है?

एक्सपर्ट बताते हैं कि इस समय सोने-चांदी की गिरावट के पीछे यूएस बांड यील्ड का 14 महीने की हाई पर पहुंचना भी एक कारण है. यूएस 10 ईयर बांड यील्ड 1.75 प्रतिशत के पार हो गया है. वहीं डॉलर में मजबूती से चांदी में कमजोरी बढ़ी है. दूसरी तरफ बाइडेन के राष्ट्रपति बनने पर यूएस-चीन वार्ता पर नजर बनी हुई है. इसके अलावा डॉलर में मजबूती से सोने-चांदी की चमक फीकी पड़ी और रुपए की मजबूती से घरेलू बाजारों में दोहरा दबाव देखने को मिला है.

सोना-चांदी में गिरावट आने से रिटेल मांग में तेजी संभव है. अब ज्वेलरी के साथ निवेश डिमांड भी बढ़ेगी. आगे चलकर शादियों के सीजन आ रहे हैं जिससे इसमें ज्वेलरी डिमांड बढ़ेगी. हालांकि निचले स्तरों से खरीदारी लौटने का अनुमान है. इस समय सोना रिकॉर्ड हाई से करीब 20 प्रतिशत तक फिसला है. एक्सपर्ट का मानना है कि अब ज्वेलरी डिमांड बढ़ती हुई दिखेगी. इंडिया रेटिंग्स के अनुसार रिटेल ज्वेलरी मार्केट में 35 प्रतिशत का उछाल संभव है.

इस समय सोने के साथ चांदी पर भी दबाव बरकरार है. इस समय ऑल टाइम हाई से भाव करीब 10,500 रुपये नीचे है. 7 अगस्त 2020 को इसने 77,949 का रिकॉर्ड हाई बनाया था. वहीं कॉमेक्स पर 1 महीने में 4 प्रतिशत से ज्यादा गिरावट नजर आई है. लेकिन अच्छी इंडस्ट्रियल डिमांड से चांदी को सपोर्ट मिला है. जबकि एमसीएक्स पर चांदी में 1 साल में 88 प्रतिशत की बढ़त देखने को मिली है.